प्रियंका गांधी बोलीं- युवाओं का 'दर्द' बढ़ाने वाली योजना है संविदा सिस्टम, योगी बताएं मकसद क्या है?

नौकरियों में संविदा सिस्टम को लेकर प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने कहा है कि सरकार युवाओं के दर्द पर मरहम न लगाकर दर्द बढ़ाने की योजना ला रही है।'' इस ट्वीट के बाद उन्होंने #नहीं_चाहिए_संविदा का हैशटैग भी इस्तेमाल किया।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

नौकरियों में संविदा सिस्टम में बड़ा बदलाव करने पर विचार कर रही योगी सरकार अब विपक्ष के निशाने पर आ गई है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने एक बार फिर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने मंगलवार को ट्वीट कर योगी सरकार पर संविदा के जरिए युवाओं के अपमान का आरोप लगाया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ''संविदा = नौकरियों से सम्मान विदा, 5 साल की संविदा= युवा अपमान कानून, माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने पहले भी इस तरह के कानून पर अपनी तीखी टिप्पणी की है। इस सिस्टम को लाने का उद्देश्य क्या है? सरकार युवाओं के दर्द पर मरहम न लगाकर दर्द बढ़ाने की योजना ला रही है।'' इस ट्वीट के बाद उन्होंने #नहीं_चाहिए_संविदा का हैशटैग भी इस्तेमाल किया।

इससे पहले भी प्रियंका गांधी ने योगी सरकार पर निशाना साधा था। प्रियंका गांधी ने कहा था "युवा नौकरी की मांग करते हैं और यूपी सरकार भर्तियों को 5 साल के लिए संविदा पर रखने का प्रस्ताव ला देती है। ये जले पर नमक छिड़ककर युवाओं को चुनौती दी जा रही है। गुजरात में यही फिक्स पे सिस्टम है। वर्षों सैलरी नहीं बढ़ती, परमानेंट नहीं करते। युवाओं का आत्मसम्मान नहीं छीनने देंगे।

आपको बता दें, उत्तर प्रदेश सरकार सरकारी नौकरी की भर्ती प्रक्रिया में बड़ा बदलाव करने पर विचार कर रही है। जिसके तहत शुरुआती चयन के बाद अगले पांच साल तक कर्मचारियों को संविदा पर रखा जाएगा। इस दौरान संविदा पर भर्ती कर्मचारियों को नियमित नियुक्ति वाले लाभ नहीं मिल पाएंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस व्यवस्था में पांच साल बाद जो लोग छंटनी से बच जाएंगे उन्हें ही नियमित तौर पर भर्ती मिलेगी। इस प्रस्ताव को लेकर फिलहाल, प्रदेश सरकार ने विभिन्न विभागों से राय मांगी है।

इसे भी पढ़ें- UP में संविदा से ही शुरू होगी सरकारी नौकरी! प्रियंका बोलीं- जले पर नमक छिड़ककर युवाओं को दी जा रही चुनौती

लोकप्रिय
next