पीएम मोदी के गढ़ वाराणसी में आज कांग्रेस की 'किसान न्याय रैली', प्रियंका गांधी करेंगी संबोधित

उत्तर प्रदेश कांग्रेस आज 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए औपचारिक रूप से अपने चुनाव अभियान की शुरुआत करेगी। पहले दिन यानी आज पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाराणसी में एक रैली को संबोधित करेंगी।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और आगामी उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए पार्टी के वरिष्ठ पर्यवेक्षक भूपेश बघेल और पार्टी सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा किसान न्याय रैली के लिए दिल्ली से वाराणसी के लिए रवाना हो गए हैं। उत्तर प्रदेश कांग्रेस आज 2022 के विधानसभा चुनावों के लिए औपचारिक रूप से अपने चुनाव अभियान की शुरुआत करेगी। पहले दिन यानी आज पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाराणसी में एक रैली को संबोधित करेंगी। रैली का नाम 'किसान न्याय रैली' नाम दिया गया है और यह मुख्य रूप से किसानों के साथ लखीमपुर की घटना पर ध्यान केंद्रित करेगी।

रैली आज दोपहर को जगतपुर इंटर कॉलेज मैदान में होगी और पार्टी के नेता इस कार्यक्रम में 'विशाल' उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए ओवरटाइम कर रहे हैं। रैली को संबोधित करने से पहले प्रियंका वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर और दुर्गा मंदिर में पूजा-अर्चना करेंगी।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा, "लखीमपुर खीरी में केंद्रीय मंत्री के बेटे द्वारा मारे गए किसानों को न्याय सुनिश्चित करने के लिए, पार्टी रैली में एक आंदोलन शुरू करेगी और यह सुनिश्चित करेगी कि यह आंदोलन सभी राज्यों, गांव, इलाके, बाजार और विधानसभा क्षेत्र में पहुंचे।"


उन्होंने दावा किया कि मारे गए किसानों के परिवारों को न्याय सुनिश्चित होने तक पार्टी का आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा की शनिवार को गिरफ्तारी नाकाफी है। इस घटना की निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए टेनी को भी इस्तीफा देना चाहिए।

लखीमपुर खीरी कांड पर बीजेपी नीत राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए लल्लू ने आरोप लगाया कि यह आश्चर्य की बात है कि एक सरकार जो बुलडोजर से विध्वंस सुनिश्चित करती है और छोटी घटनाओं में अपराधियों के पोस्टर प्रदर्शित करती है, वह किसानों की हत्या के बारे में चुप है।

यूपीसीसी प्रमुख ने कहा, "सरकार को कहना चाहिए कि वह लखीमपुर खीरी के आरोपी व्यक्तियों के पोस्टर कब जारी करेगी।"

उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र और राज्य की भाजपा सरकार आरोपी और मंत्री के बेटे को बचाने की पूरी कोशिश कर रही है। इस बीच, एआईसीसी के निर्देशों के अनुसार, कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता लखीमपुर की घटना के विरोध में सोमवार को राजभवन के बाहर तीन घंटे का मौन व्रत रखेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 10 Oct 2021, 10:40 AM