'अग्निपथ' की घोषणा से पहले प्रियंका गांधी ने रक्षामंत्री को पत्र लिख उठाई थी युवाओं की आवाज, सरकार ने कर दिया था दरकिनार

प्रियंका गांधी ने 29 मार्च 2020 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को एक पत्र लिखा था, जिसमें आर्मी भर्ती से जुड़ी मांगों पर ध्यान देकर तुरंत हल निकालने का अनुरोध किया था। हांलाकि सरकार ने इस पत्र के माध्यम से उठाई गई युवाओं की आवाज को दरकिनार कर और “नई आर्मी भर्ती” की घोषणा कर दी।

फोटो: Getty Images
फोटो: Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

देश में केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ जमकर विरोध हो रहा है। कई राज्यों में तो ये विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया है। इन सबके बीच कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार पर युवाओं की आवाज को महत्व ना देने का आरोप लगाया है।

प्रियंका गांधी ने एक लेटर ट्वीट किया है। जिससे ये पता चलता है कि प्रियंका गांधी ने 29 मार्च 2020 को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को एक पत्र लिखा था, जिसमें आर्मी भर्ती से जुड़ी मांगों पर ध्यान देकर तुरंत हल निकालने का अनुरोध किया था। हांलाकि सरकार ने इस पत्र के माध्यम से उठाई गई युवाओं की आवाज को दरकिनार कर और “नई आर्मी भर्ती” की घोषणा कर दी।

दरअसल, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने 29 मार्च को जो चिट्ठी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) को लिखी थी, उसमें आग्रह किया था कि सेना में खाली पड़े पदों को भरने के लिए तत्काल भर्ती निकाली जाए और युवाओं को आयुसीमा में दो साल की छूट दी जाए। उन्होंने रक्षा मंत्री को लिखे पत्र में यह भी कहा कि लंबे समय से भर्ती नहीं होने, रिजल्ट और नियुक्तियों में विलंब के कारण युवाओं में भारी निराशा है।

प्रियंका गांधी ने कहा था कि एयरफोर्स ( Air Force) में जवानों की भर्ती (जनवरी, 2020) के लिए नवंबर, 2020 में परीक्षा हुई थी और इसका परिणाम भी नवंबर, 2020 में आ गया था। सभी टेस्ट हो जाने और अंतरिम चयन सूची आ जाने के बावजूद अभी तक इसकी एनरॉलमेंट लिस्ट जारी नहीं की गई है। यह लिस्ट तत्काल जारी की जाए।

प्रियंका गांधी ने रक्षा मंत्री राजनाथ को पत्र में क्या लिखा?

प्रियंका गांधी ने लिखा-

महोदय,

सेना में भर्ती होकर देश की सेवा करना भारत के तमाम युवाओं का सपना होता है। इसके लिए देश के लाखों युवा कड़ी मेहनत से तैयारी करते हैं। महोदय, देशभर से तमाम युवाओं ने सेना में भर्तियों के परिणामों, नियुक्तियों में देरी और भर्ती रैली से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं की तरफ आपका एवं सरकार का ध्यान आकर्षित करने की कोशिश की है, जोकि निम्नलिखित हैं:

  • वायुसेना में सैनिक की भर्ती (जनवरी 2020) के लिए नवंबर 2020 में परीक्षा हुई थी और उसका परिणाम भी नवंबर 2020 में आ गया था। सभी टेस्ट हो जाने एवं प्रोविजनल सिलेक्शन लिस्ट आ जाने के बावजूद अभी तक इसकी अनरोलमेंट लिस्ट जारी नहीं की गई है। इस भर्ती से जुड़े युवाओं का कहना है कि एनरोलमेंट लिस्ट जारी करने की तिथि को बार-बार आगे बढ़ाया जा रहा है। जनवरी 2020 की भर्ती की एनरोलमेंट लिस्ट तुरंत जारी की जाए

  • इसके अलावा वायुसेना में सैनिकों की भर्ती की एक और परीक्षा जुलाई 2021 में ली गई, जिसमें लाखों युवाओं ने हिस्सा लिया। इसका परिणाम अगस्त 2021 में आना था, लेकिन अभी तक परिणा जारी नहीं हुआ है। जुलाई 2021 की भर्ती का परिणाम जारी कर आगे की प्रक्रिया को शीघ्र शुरू किया जाए।

  • लाखों युवा दौड़, नियमित व्यायाम एवं अन्य माध्यमों से सेना भर्ती की तैयारी में लगे हैं, लेकिन कई सालों से सेना की भर्ती नहीं आई है। सेना भर्ती की तैयारी करने वाले युवा परेशान हैं। सेना में खाली पड़े लाखों पद भरने के लिए अविलंब भर्ती निकाली जाए और सभी भर्ती केंद्रों पर भर्ती रैलियों का आयोजन किया जााए।

  • लंबे समय से सेना में भर्तियों के ना आने एवं परिणामों, नियुक्तियों में देरे के चलते कई योग्य युवाओं की उम्र निकल रही है। सेना में भर्ती के लिए एक निश्चिच समयसीमा के लिए अभ्यार्थियों को आयु सीमा में 2 साल की छूट दी जाए।

महोदय दिसंबर 2021 में केंद्र सरकार की तरफ से लोकसभा में दिए गए जवाब में सेना में 1.25 लाख पद खाली होने की बात कही गई। एकतरफ जहां सेना में लाखों पद खाली पड़ें हैं, वहीं सेना भर्ती के परिणामों व प्रक्रियाओं में देरी व सालोंसाल भर्ती ना आने से लाखों युवा कड़ी मेहनत करने के बावजूद भी निराश हैं।

आशा है कि आप सेना में भर्तियों से जुडे इन सभी बिंदुओं को संज्ञान में लेंगे एवं अविलंब आवश्यक कदम उठाएंगे, ताकि सेना भर्ती की तैयारी करने वाले युवाओं की मेहनत को सम्मान व समाधान मिन सके।

धन्यवाज, जय हिंद।

'अग्निपथ' की घोषणा से पहले प्रियंका गांधी ने रक्षामंत्री को पत्र लिख उठाई थी युवाओं की आवाज, सरकार ने कर दिया था दरकिनार
'अग्निपथ' की घोषणा से पहले प्रियंका गांधी ने रक्षामंत्री को पत्र लिख उठाई थी युवाओं की आवाज, सरकार ने कर दिया था दरकिनार

इसके साथ ही प्रियंका गांधी ने एक और ट्वीट कर सरकार से कहा कि आर्मी में भर्ती के लिए तैयारी करने वाले युवाओं के दर्द को समझना होगा। उन्होंने केंद्र सरकार से से आग्रह किया कि सेना में खाली पड़े पदों को भरने के लिए तत्काल फैसले लिए जाएं। उन्होंने कहा कि तीन साल से सेना में भर्ती नहीं आई है. युवा निराश और हताश हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia