शाहीन बाग की तरह कोलकाता में CAA-NRC के खिलाफ प्रदर्शन जारी, चिदंबरम हुए शामिल, मोदी सरकार के खिलाफ लगे नारे

कोलकाता के पार्क सर्कस में हो रहे प्रदर्शन को दिल्ली के शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन की तरह है, जिसमें मुख्य रूप से मुस्लिम महिलाएं शामिल हैं, जो सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ 12 दिनों से धरने पर हैं। वहीं इस धरने में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम भी शामिल हुए।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश भर में सीएए और एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। पश्चिम बंगाल में लोग दिल्ली के शाहीन बाग जैसे कई दिनों से धरना प्रदर्शन पर बैठे हैं। वहीं कोलकाता पहुंचे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर राज्य के पार्टी नेताओं के लिए एक लीडरशिप ट्रेनिंग कैंप का आयोजित किया।

इससे पहले शुक्रवार को कोलकाता में पी चिदंबरम ने पार्क सर्कस में सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन में शामिल हुए और वहां मौजूद लोगों को आश्वस्त किया कि उनकी पार्टी उनके साथ है। चिदंबरम शुक्रवार देर शाम पार्क सर्कस मैदान में पहुंचे थे। प्रदर्शनकारियों ने उन्हें केंद्र की बीजेपी नीत सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए घेर लिया।

पूर्व वित्तमंत्री पी चिदंबरम ने प्रदर्शनकारियों के साथ कुछ समय बिताया और उनमें से कुछ के साथ बातचीत भी की। कोलकाता के पार्क सर्कस में हो रहे प्रदर्शन को दिल्ली के शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन का संस्करण बताया जा रहा है, जिसमें मुख्य रूप से मुस्लिम महिलाएं शामिल हैं, जो सीएए, एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ 12 दिनों से धरने पर हैं।

शाहीन बाग के जैसे यहां भी 7 जनवरी को स्थानीय पार्क में बड़े पैमाने पर आसपास की महिलाएं देश में जो कुछ हो रहा है उस पर चिंता, निराशा और गुस्से को व्यक्त करने के लिए जुट गईं।

उन्होंने नागरिकता (संशोधन) अधिनियम, एक प्रस्तावित देशव्यापी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के खिलाफ एक विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। डॉक्टर, वकील, शिक्षक, प्रोफेसर जैसे शीर्ष पेशेवर से लेकर दूसरों के घरों में खाना पकाने या बर्तन धोने जैसा काम कर जीविकोपार्जन करने वाला हर कोई इसमें शामिल हो रहा है और यह संख्या हर दिन बढ़ती चली जा रही है।

लोकप्रिय