नए आईटी नियमों को PTI ने बताया मीडिया की आजादी का उल्लंघन, याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र को भेजा नोटिस

इसी साल 25 फरवरी, 2021 को अधिसूचित किये गए नए आईटी नियमों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देते हुए पीटीआई ने तर्क दिया कि यह समाचार और समसामयिक मामलों की खबरों के प्रकाशकों, विशेष रूप से डिजिटल समाचार पोर्टल के प्रकाशकों को विनियमित करने का प्रयास करता है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत की सबसे बड़ी समाचार एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पीटीआई) द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम- 2021 के खिलाफ दायर याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति जेआर मिधा की पीठ ने केंद्र के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को नोटिस जारी किया है।

समाचार एजेंसी ने तर्क दिया कि केंद्र सरकार व्यापक सरकारी निरीक्षण और एक अस्पष्ट शब्द 'आचार संहिता' लगाकर डिजिटल समाचार मीडिया को विनियमित करने का प्रयास कर रही है। नियमों की संवैधानिक वैधता को चुनौती देते हुए समाचार एजेंसी ने तर्क दिया कि यह समाचार और समसामयिक मामलों की सामग्री के प्रकाशकों, विशेष रूप से डिजिटल समाचार पोर्टलों के प्रकाशकों को विनियमित करने का प्रयास करता है। नियमों को 25 फरवरी, 2021 को अधिसूचित किया गया था।


दलील में तर्क दिया गया है कि नए आईटी नियमों ने निगरानी और भय के युग की शुरुआत की, जिसके परिणामस्वरूप स्व-सेंसरशिप हुई और संविधान के भाग 3 के तहत निहित मौलिक अधिकारों का हनन हुआ। याचिका में कहा गया है कि ये नियम वस्तुत: सरकार को डिजिटल समाचार पोर्टलों पर सामग्री निर्देशित करने की अनुमति देते हैं, जो मीडिया की स्वतंत्रता का पूरी तरह से उल्लंघन करते हैं।

समाचार एजेंसी ने कहा है कि ये नियम आईटी अधिनियम के उद्देश्य और दायरे से परे हैं और इस बात पर जोर दिया कि सामग्री, जिसे आईटी अधिनियम द्वारा विनियमित किया जाना था, अपराध के रूप में, यौन स्पष्ट सामग्री, बाल पोर्नोग्राफी तक सीमित थी। याचिका में कहा गया है कि इन अपराधों पर मुकदमा चलाया जाना था और सामान्य अदालतों द्वारा मुकदमा चलाया जाना था।

याचिका में कहा गया है, "वे एक विशिष्ट और लक्षित वर्ग के रूप में 'समाचार और वर्तमान मामलों की सामग्री' के साथ डिजिटल पोर्टल पेश करते हैं, जो एक ढीले-ढाले 'आचार संहिता' द्वारा विनियमन के अधीन होते हैं, और केंद्र सरकार के अधिकारियों द्वारा पूरी तरह से निरीक्षण किया जाता है।" पीटीआई ने तर्क दिया कि वह कोई सुरक्षा नहीं चाहता और वह उस सामग्री के लिए किसी भी सुरक्षा के प्रावधान का हकदार नहीं है जिसे वह होस्ट और प्रकाशित करता है, और वह प्रकाशित सामग्री की पूरी जिम्मेदारी लेता है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने नए आईटी नियमों के खिलाफ अन्य डिजिटल समाचार आउटलेट जैसे- द वायर, द क्विंट आदि द्वारा दायर इसी तरह की याचिकाओं के साथ ही पीटीआई की याचिका को टैग किया है। अदालत इन याचिकाओं पर 20 अगस्त को सुनवाई करेगी।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia