पुडुचेरीः टॉपर छात्रा को हिजाब की वजह से राष्ट्रपति से नहीं मिला अवॉर्ड, दीक्षांत समारोह में जाने से रोका गया

राष्ट्रपति कोविंद के जाने के बाद यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने बाकी बच्चों को प्रमाण पत्र बांटे। इस दौरान राबिया को भी सम्मानित करने के लिए बुलाया गया, जिसपर राबिया ने विरोध जताते हुए गोल्ड मेडल लेने से इनकार कर दिया और केवल प्रमाण पत्र स्वीकार किया।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मौजूदगी में हिजाब पहनने वाली गोल्ड विजेता छात्रा के साथ भेदभाव का मामला सामने आया है। यह घटना केंद्र शासित प्रदेश पुड्डुचेरी का है, जहां के एक विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने सभी टॉपर छात्रों और छात्राओं को अपने हाथों से सम्मानित किया। लेकिन इस दौरान विश्वविद्यालय की गोल्ड मेडल विजेता मुस्लिम छात्रा राबिया को हिजाब पहने होने की वजह से कैंपस के अंदर समारोह में ही जाने से रोक दिया गया।

यूनिवर्सिटी में गोल्ड विजेता छात्रा राबिया का आरोप है कि जब तक राष्ट्रपति कोविंद समारोह में मौजूद रहे, तब तक उसे अंदर नहीं जाने दिया गया। बाद में जब कई छात्रों को सम्मानित करने के बाद राष्ट्रपति ऑडिटोरियम से बाहर निकल गए, तब उसे अंदर जाने दिया गया। इस भेदभाव वाले रवैये पर विरोध जताते हुए बाद में राबिया ने यूनिवर्सिटी से गोल्ड मेडल लेने से इनकार कर दिया।

राबिया का आरोप है कि उसे सबके सामने नीचा दिखाने और अपमानित करने की कोशिश की गई। छात्रा ने कहा, “मैं अन्य छात्रों के साथ सभागार के अंदर बैठी हुई थी, तभी मुझे वहां से बाहर जाने के लिए कहा गया। वहां पर मुझे अपना हिजाब हटाने के लिए कहा गया, लेकिन जब मैंने इससे इनकार कर दिया तो मुझे सभागार से बाहर बैठने के लिए कहा गया। इस पूरी घटना के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अंदर ही मौजूद थे।”


मिली जानकारी के अनुसार राष्ट्रपति कोविंद के जाने के बाद यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने बाकी बच्चो को प्रमाण पत्र बांटे। इस दौरान राबिया को भी गोल्ड मेडल देने के लिए बुलाया गया, जिसपर राबिया ने विरोध जताते हुए गोल्ड मेडल लेने से मना कर दिया और केवल प्रमाण पत्र स्वीकार किया। राबिया ने कहा कि उसके साथ इस तरह का व्यवहार कर उसे सार्वजनिक रूप से अपमानित किया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia