पुलवामा हमला: कांग्रेस ने कहा- जवानों की शहादत पर शोक में डूबा था देश, लेकिन शूटिंग में व्यस्त थे पीएम

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि देश पुलवामा हमले के बाद सदमे में था और पीएम मोदी जिम कार्बेट पार्क में फोटो शूटिंग में व्यस्त थे।” इस दौरान पीएम मोदी से उन्होंने कई सवाल पूछे।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर कांग्रेस ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाते हुए कहा कि पीएम मोदी और अमित शाह आतंकवाद पर राजनीति कर रहे हैं। सुरजेवाला ने कहा, “जिस वक्त देश शहीदों के शव के टुकड़े चुन रहा था। उस वक्त पीएम मोदी अपने नाम के नारे लगवा रहे थे और अमित शाह रैली में कांग्रेस पर हमला कर रहे थे।” उन्होंने आगे कहा कि जब देश पुलवामा आतंकी हमले पर शहीद जवानों को लेकर रो रहा था, तब पीएम मोदी शाम तक जिम कॉर्बेट पार्क में फोटो शूट करा रहे थे। पूरी दुनिया में कोई ऐसा पीएम है क्या? मेरे पास इस आचरण के लिए कोई शब्द नहीं बचे हैं।” उन्होंने आगे कहा कि शहीदों और शहादत के अपमान का जो उदाहरण मोदी जी ने पेश किया वैसा कोई उदाहरण पूरी दुनिया में नहीं है।

उन्होंने आगे कहा, “पुलवामा आतंकी हमला हमारे देश की सामूहिक चेतना और अखंडता पर हमला है। हर भारतीय रोष और आक्रोश में है। कांग्रेस पार्टी और पूरा देश सेना और सरकार के साथ है। देश को आज भी याद है कि श्रीमती इंदिरा गांधी और देश की सेना ने 1971 में पाकिस्तान को करारा जवाब दिया था। यह आज भी दोनों देशों के इतिहास के पन्नों पर दर्ज है।”

इस दौरान रणदीप सुरजेवाला ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कई सवाल पूछे:

  • गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल की विफलता क्‍यों स्‍वीकार नहीं की?
  • आतंकियों को आरडीएक्‍स और रॉकेट लांचर कैसे मिले?
  • जैश की धमकी को क्‍यों नजरंदाज किया गया?
  • हवाई मार्ग से सीआरपीएफ के जवानों को क्‍यों नहीं ले जाया गया?
  • 56 महीनों में 488 जवान शहीद क्‍यों हुए?
  • मोदी सरकार के 56 महीनों में अकेले जम्मू-कश्मीर में हमारे 488 जवान शहीद हुए हैं, ऐसा क्यों?
  • नोटबंदी से आतंकी हमले बंद क्यों नहीं हुए, जैसा कि मोदी जी आपने देश से कहा था?
  • एक तरफ हम शहीदों के टुकड़े चुन रहे थे और दूसरी तरफ प्रधानमंत्री मोदी जी अपने प्रचार वाली फिल्म की शूटिंग कर चाय-नाश्ता उड़ाते रहे। क्या ये है भाजपाई राष्ट्रवाद?
  • पूरे देश के चूल्हे बंद थे, तब उनके गले से चाय-पकौड़े नीचे उतरे कैसे होंगे?

उन्होंने आगे कहा, “28/11 को जब हमारी सेना आतंकियों को साफ करने में लगी थी, तब बीजेपी अखबार में रक्तरंजित इश्तिहार देने में लगी थी। 2014 तक हर बार मोदी जी ने चुनाव तक मुंबई हमलों पर अपनी राजनीति को जारी रखा।”

रणदीप सुरजेवाला ने जवानों की शहादत पर राष्ट्रीय शोक की घोषणा न होने पर भी मोदी सरकार की आलोचना की। उन्होंने कहा, “प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय शोक की घोषणा नहीं की। ताकि सरकारी खर्च पर होने वालीं राजनीतिक सभाएं रुक न जाएं। जब शहीदों के शव एयरपोर्ट पर थे, तब झांसी के कार्यक्रम से पीएम मोदी एक घंटा देरी से आए।” उन्होंने आगे कहा, “कांग्रेस पार्टी ने भारत की एकता और अखंडता पर हमला बोलने वाले पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद को करारा जवाब देने हेतु हमारी सेना और सरकार का भरपूर समर्थन किया। लेकिन दुर्भाग्यवश पीएम मोदी के लिये सत्ता की लालसा देश की सेना और शहीदों के सम्मान से बड़ी है। मोदी जी राजधर्म भूलकर केवल राज बचाने की जुगत में लगे हैं। अब मोदी जी की विदाई का समय आ गया है। ऐसी अहंकारी और स्वयं-भू मोदी सरकार को इस देश की 130 करोड़ जनता जवाब देगी।”

लोकप्रिय