राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार करने वाले 'मिस्टर एक्स' पर फ्रांस की अदालत में मुकदमा दर्ज

राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार में शामिल एक 'मिस्टर एक्स' पर फ्रांस की अदालत में आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ है। इस मिस्टर एक्स पर आरोप है कि उसने इस सौदे को प्रभावित किया, जिससे कि सौदे के ऑफसेट कॉन्ट्रेक्ट में भारतीय उद्योगपति और भारतीय कंपनियों को फायदा हुआ।

फोटो : Getty Images
फोटो : Getty Images
user

आशीस रे

फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन और भारत सरकार के बीच हुए राफेल सौदे के सिलसिल में फ्रांस की एक अदालत में आपराधिक मुकदमा दर्ज हुआ है। फ्रांस की न्यूज वेबसाइट ली मोंडे के मुताबिक फ्रांस के एक एनजीओ की शिकायत पर यह मुकदमा 22 अप्रैल को दर्ज हुआ है। इसमें उस अज्ञात व्यक्ति को आरोपी बनाया गया है जिसने कथित तौर पर सौदे को प्रभावित किया था।

ली मोंडे के मुताबिक, फ्रांस के एनजीओ ऐसे शेरपा ने अदालत का रुख किया था, जिसके बाद मुकदमा दर्ज हुआ है। फ्रांसीसी न्यायिक प्रक्रिया के तहत फिलहाल इस शख्स को 'मिस्टर एक्स' कहा गया है। एक वकील ने बताया कि अब जांचकर्ताओं और जज की जिम्मेदारी है कि वे इस 'मिस्टर एक्स' की पहचान करें। वकील के मुताबिक यह मिस्टर एक्स कोई फ्रांसीसी अधिकारी, कोई भारतीय या फिर दसॉल्ट एविएशन से जुड़ा अधिकारी हो सकता है।

'मिस्टर एक्स' पर लगाए गए आरोपों में भ्रष्टाचार के साथ ही अपने प्रभाव का इस्तेमाल करना, भ्रष्टाचार को छिपाना, तरफदारी करना और मनी लॉन्ड्रिंग जैसे आरोप भी शामिल हैं।

ली मोंडे ने लिखा है कि, “राफेल सौदे में कथित भ्रष्टाचार को लेकर मुकदमा कायम कराने के दो असफल प्रयासों के बाद आखिरकार इस मामले की न्यायिक जांच की शुरुआत हो सकती है, जिसमें फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन और नरेंद्र मोदी सरकार के बीच राफेल विमानों का 7.9 बिलियन यूरो का सौदा हुआ था और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मित्र अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए प्रभाव डाला गया था।”

इसमें कहा गया है कि, “शेरपा की शिकायत मीडियापार्ट की खोजी रिपोर्ट के बाद सामने आई है, जिसमें भारत के एक बिचौलिये को रिश्वत देने के आरोप सामने आए थे।”

फ्रांसीसी कानून के मुताबिक एसो शेरपा एनजीओ एक मान्यता प्राप्त भ्रष्टाचार निरोधी संगठन है और उसे किसी भी मामले में भ्रष्टाचार या मनी लॉन्ड्रिंग का शक होने पर अदालत का रुख करने का नागिरक अधिकार है।

ली मोंडे ने लिखा है कि जब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का अगुवाई वाली सरकार ने दसॉल्ट के साथ राफेल विमानों का सौदा किया था जिसमें 126 विमानों की सप्लाई के लिए भारत के हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को पार्टनर बनाया गया था, तो ली मोंडे ने इसे ऐतिहासिक सौदा कहा था। ली मोंडे आगे लिखता है कि, “लेकिन मौजूदा प्रधानमंत्री ने इस सौदे में नाटकीय घटनाक्रम के बाद अनिल अंबानी को शामिल किया...जिससे भारतीय रक्षा मंत्रालय तक हतप्रभ था।” रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि, “...इस सौदे से श्री मोदी का यह मित्र सबसे बड़े लाभार्थी के रूप में सामने आया, साथ ही अन्य भारतीय कंपनियों को भी करीब 4 बिलियन यूरो के ऑफसेट कॉन्ट्रेक्ट का फायदा मिला।”

मीडियापार्ट ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि पीएनएफ (फ्रांस की एजेंसी) और ए एफए (फ्रांस की भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी) ने शुरु में शेरपा के आरोपों को नजरंदाज कर दिया था और इसे फ्रांस के हितों के खिलाफ बताया था। ली मोंडे की रिपोर्ट में शेरपा के वकीलों विलियम बुर्दों और विंसेंट ब्रेगार्थ ने कहा है कि, “यह एक असाधारण भ्रष्टाचार का केस है, क्योंकि इसमें सच को छिपाने के लिए जो लोग शामिल है, जो कुछ दांव पर और जिन तरीकों को अपनाया गया है, वह गजब है।”

वकीलों ने आगे कहा, “दो तथ्य तो स्थापित हो चुके हैं, एक भ्रष्टाचार कैसे हुआ और किस तरह भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी ने इससे खुद को अलग किया, और जिस तरह ए एफए के मुखिया ने जो संकल्प दिखाया है उससे संकेत मिले कि इस सौदे में राजनीतिक दखलंदाजी हुई थी। अब जांच में यह बात भी सामने आएगी कि किस तरह न्याय को रोकने के लिए रोड़े लगाए गए।”

ध्यान रहे कि मीडियापार्ट के खुलासे के बाद दसॉल्ट एविएशन ने कहा था कि राफेल सौदा पूरी पारदर्शिता के साथ विभिन्न पार्टनर के बीच हुआ था, इसमें सरकारें और उद्योग दोनों ही शामिल हैं। लेकिन दसॉल्ट ने सौदे में मोदी की भूमिकासे इनकार नहीं किया था। और अब इसकी जांच फ्रांस की अदालतें करेंगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia