राहुल गांधी ने फिर उठाया प्रेस और संस्थानों की आजादी का मुद्दा, कहा- ये मुक्त हो जाएं तो देखें इस सरकार का हाल

राहुल गांधी ने देश में मोदी सरकार द्वारा प्रेस और अन्य संस्थानों के नियंत्रण को एक बड़ी समस्या करार देते हुए कहा कि आज दुनिया का कोई भी देश ऐसी स्थिति से नहीं जूझ रहा है, जहां मीडिया ऐसे समय भी सरकार से सवाल न करे, जब उसकी जमीन दूसरे देश ने जब्त कर ली हो।

फोटोः @INCPunjab
फोटोः @INCPunjab
user

आईएएनएस

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मंगलवार को पंजाब में एक प्रेस कांफ्रेस में इस बात को खारिज कर दिया कि एक कमजोर विपक्ष के कारण केंद्र सरकार एकतरफा फैसले लेने में सक्षम हो रही है। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने मंगलवार को कहा, "मुझे फ्री प्रेस दे दो और अन्य प्रमुख संस्थानों को आजाद कर दो, फिर देखो यह सरकार लंबे समय तक नहीं चलने वाली।"

राहुल गांधी ने इस दौरान इस बात को इंगित किया कि किसी भी देश में विपक्ष एक ढांचे के भीतर काम करता है, जिसमें मीडिया, न्यायिक प्रणाली और संस्थान शामिल हैं, जो लोगों की आवाज की रक्षा करते हैं। उन्होंने कहा, "भारत में पूरे ढांचे को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सरकार द्वारा नियंत्रित और कब्जा कर लिया गया है। लोगों को आवाज देने के लिए डिजाइन किए गए पूरे आर्किटेक्चर पर कब्जा कर लिया गया है।"

राहुल गांधी ने कृषि के 'काले' कानूनों के खिलाफ पंजाब में अपनी खेती बचाओ यात्रा के तीसरे और अंतिम दिन एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बातें कहीं। राहुल गांधी ने आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार ने सभी प्रमुख संस्थानों पर नियंत्रण कर लिया है और ऐसा उन्होंने लोकतांत्रिक तरीके से नहीं बल्कि जबरन किया है। उन्होंने जोर देकर कहा, "मुझे फ्री प्रेस और मुक्त संस्थान दें और फिर देखें यह सरकार लंबे समय तक नहीं चलेगी।"

उन्होंने कहा कि कांग्रेस बीजेपी से लड़ रही है और यह लड़ाई आगे और अधिक आक्रामक होती जाएगी। सरकार द्वारा संस्थानों के नियंत्रण को एक बड़ी समस्या करार देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि आज दुनिया का कोई भी देश ऐसी स्थिति से नहीं जूझ रहा है, जहां मीडिया भी सरकार से सवाल न करे, जब उसकी जमीन दूसरे देश ने जब्त कर ली हो।

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी को भारत के लोगों में कोई दिलचस्पी नहीं है, बल्कि वह केवल अपनी छवि की रक्षा करने और उसे चमकाने के बारे में चिंतित हैं। उन्होंने चीन की घुसपैठ को भी स्वीकार कर लिया है। राहुल गांधी ने मीडिया पर मोदी की छवि को बेहतर बनाने को लेकर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि मोदी यह सहज रूप से जानते हैं कि प्रेस उनके एकतरफा बयानों को पेश करेगा। उन्होंने मीडिया से सीधे पूछा, "आप प्रेस कॉन्फ्रेंस में उनसे सवाल क्यों नहीं करते।"

राहुल गांधी ने कहा कि हालांकि सरकार ने भले ही संस्थानों पर कब्जा कर लिया हो, लेकिन तथ्य यह है कि वे किसानों, युवाओं और छोटे व्यापारियों को नियंत्रित नहीं कर सकते, जिनके हितों को वे नष्ट कर रहे हैं। उन्होंने कहा, "मैं इन लोगों के बीच काम करता हूं, जो मोदी की नीतियों से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। मैं एक धैर्यवान व्यक्ति हूं और तब तक इंतजार करूंगा, जब तक भारत के लोग सच्चाई को नहीं देख लेते।"

राहुल गांधी ने कहा कि वह किसानों पर मोदी सरकार के हमले के खिलाफ लड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा, "मैं उनसे लड़ूंगा और उन्हें रोक दूंगा।" राहुल ने कहा, अगर एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) जाता है, तो पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जैसे अन्य कृषि राज्यों का कोई भविष्य नहीं रह जाएगा।

पीएम मोदी की ओर से पंजाब और हरियाणा में उनके विरोध का मजाक उड़ाने संबंधी एक सवाल के जवाब में राहुल ने कहा कि उन्होंने फरवरी में भी ऐसा किया था, जब उन्होंने पहली बार कोरोना के बारे में चेतावनी दी थी। प्रधानमंत्री मोदी के पहले के बयान पर कटाक्ष करते हुए कि भारत 22 दिनों में कोविड के खिलाफ युद्ध जीत जाएगा, कांग्रेस सांसद ने कहा, "आप खुद देख सकते हैं कि कौन अधिक समझदारी से बात करता है- मोदी या मैं।"

राहुल गांधी ने कहा, "आप (मीडिया) फैसला कर सकते हैं कि कौन मजाक कर रहा है।" उन्होंने कहा, "खतरा वास्तविक है और इसे सिर्फ इसलिए नकारा नहीं जा सकता, क्योंकि मोदी एंड कंपनी मेरा मजाक उड़ा रही है।" किसानों के हित में आवाज बुलंद कर रहे राहुल गांधी के साथ इस यात्रा के दौरान पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह भी काफी मुखर रहे हैं। उनका कहना है कि उनकी सरकार जल्द ही केंद्र के इन कानूनों को विफल करने के लिए एक विशेष सत्र लाएगी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia