सरकार के दबाव में मीडिया को कागज़ी शेर मत बनने दो, संस्थाओं की रक्षा करो: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि सरकार के दबाव में मीडिया और समाचार संस्थाओं को कागजी शेर नहीं बनना चाहिए। राहुल गांधी मोहाली में संडे नवजीवन के महात्मा गांधी को समर्पित विशेषांक का विमोचन कर रहे थे।

फोटो : नवजीवन
फोटो : नवजीवन

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश के संस्थानों और संस्थाओं पर हो रहे लगातार हमले को देश के लिए खतरनाक बताते हुए कहा है कि मीडिया और समाचार संस्थान लोकतंत्र का अभिन्न अंग हैं. लेकिन सरकार के दबाव में यह सिर्फ कागज के शेर बन कर रह गए हैं। इन्हें ऐसा मत बनने दो।

मोहाली में संडे नवजीवन के महात्मा गांधी को समर्पित विशेषांक के विमोचन के मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि, “आज की प्रेस में पहले पन्ने पर शादियों के बारे में पढ़ने को मिलेगा, स्पोर्ट्स मिलेगा, क्रिकेट के बारे में मिलेगा। लेकिन किसान, भ्रष्टाचार, युवाओं की समस्याओं आदि के बारे में पढ़ने को नहीं मिलता। इसका कारण है कि मीडिया पर बड़े लोगों ने कब्जा कर लिया है और उसकी स्वतंत्रता खत्म हो गई है।”

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इसीलिए नवजीवन अखबार बहुत जरुरी है। उन्होंने कहा कि नवजीवन अखबार एक स्वतंत्र अखबार है। उन्होंने नवजीवन की संपादकीय टीम को बधाई दी और कहा कि, “आपको खुलकर अपनी बात कहनी है। आप कांग्रेस की बुराई कर सकते हैं, हम आरएसएस और बीजेपी नहीं हैं कि इसका बुरा मानेंगे। अगर हम हम गलती करें, तो आप लिखें कि क्या गलती हुई और किस नीति में दोष है। हम उसे सुधारेंगे।”

राहुल गांधी ने कहा कि आज हिंदुस्तान में मीडिया को डराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि, “हिंदुस्तान इसका जवाब देगा। अभी चुनाव हुए हैं, उसके नतीजों में इसका जवाब मिल जाएगा।” उन्होंने पत्रकारों से कहा कि, “आप अखबार में जो चाहे लिखें, लेकिन युवाओं के मुद्दे, रोजगार के मुद्दे, किसानों के मुद्दे, इन पर भी लिखा जाना चाहिए।”

राहुल गांधी ने युवाओं के मुद्दों और बेरोजगारी का जिक्र करते कहा कि, “आज देश में गुस्सा बढ़ता जा रहा है। इस गुस्से को बीजेपी और संघ के लोग अपने मकसद के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। लेकिन हमें समझना होगा कि गुस्से का कारण बेरोजगारी है। देश की मोदी सरकार हिंदुस्तान के युवा को रोजगार नहीं दे पा रही है। सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती यही है।” उन्होंने चीन की मिसाल देते हुए कहा कि चीन कहीं ज्यादा युवाओं को रोजगार देता है, जबकि भारत में ऐसा नहीं हो पाता है।

उन्होने कहा कि, “कांग्रेस संस्थाओंको बचाने की लड़ाई लड़ रही है और हम जीतेंगे। हम बीजेपी को चुनाव में हराएंगे, लेकिन इसके आगे जाना होगा। जो अहम मुद्दे हैं, रोजगार और किसानों के मुद्दे, उन्हें हल करना होगा।”

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों पर हमला बोलता। उन्होंने कहा कि, “आज मोदी सरकार किसानों को बोझ मानती है। उनकी नजर में किसान की कोई जरूरत नहीं है, मेक इन इंडिया से काम चल जाएगा, लेकिन पंजाब में मैं कहना चाहता हूं कि 21वीं सदी हो या 22वी सदी हो, किसाने के बिना देश आगे नहीं जा सकता, युवाओं के अधिकारों की रक्षा के बिना देश आगे नहीं जा सकता।”

उन्होंने कहा कि, “देश में हमारी सरकार आएगी तो हमें इक्कीसवीं सदी को ध्यान में रखकर काम करना पड़ेगा। हम ऐसा काम करते हैं, क्योंकि हम जनता की आवाज सुनते हैं। मुझे शक्ति नहीं चाहिए, शक्ति जनता के पास है, कांग्रेस को लोगों के बीच जाकर उनकी आवाज सुननी पड़ेगी तो जनता की शक्ति खुद आए जाएगी, उससे ही हम देश चलाएंगे।”

उन्होंने पीएम मोदी पर हमला किया कि वे कहते हैं कि उनके आने से पहले हाथी सो रहा था, देश में कुछ हुआ ही नहीं था। राहुल गांधी ने कहा कि युवाओं का गुस्सा पीएम मोदी की इसी सोच के कारण है। उन्होंने कहा कि, “मोदी और आरएसएस सोचते हैं कि जो उनके दिल में हैं, वही सही है, बाकी लोगों के दिल में दिमाग में जो है सका कोई अर्थ नहीं है।”

राहुल गांधी ने कहा कि, “यही सोच है नवजीन के पीछे, इसे कांग्रेस की आवाज नहीं बनना है, बल्कि जनता की आवाज़ बनना है, और कांग्रेस को बताना है कि जनता क्या सोच रही है।” उन्होंने कहा कि देश की सभी संस्थाओं पर आक्रमण हो रहा है, सुप्रीम कोर्ट जज कहते हैं काम नहीं करने दिया जाता, सेना के जनरल ने कहा कि मोदी जी ने सेना को निजी संपत्ति बना रखा है, उसका राजनीतिक इस्तेमाल हो रहा है, बीजेपी मंत्रियो को धमकाया जाता है। देश के हर संस्थान पर हमला हो रहा है।कांग्रेस और विपक्ष के सभी दल इस हमले के खिलाफ खड़े हैं।” उन्होंने कहा कि 2019 में हम बीजेपी को दिल्ली सरकार से हटाकर ही दम लेंगे। जनता के बीच तय हो चुका है कि नरेंद्र मोदी और बीजेपी को सत्ता से हटाना है।

राहुल गांधी ने मीडिया और पत्रकारों का आव्हान किया कि “आपको देश के संस्थाओं की रक्षा करनी है, संविधान की रक्षा करनी है, सुप्रीम कोर्ट की, चुनाव आयोग की रक्षा करनी है, आप एक बड़ा काम कर रहे हैं, आप एक स्वतंत्र आवाज हैं और जल्द से जल्द हम दिल्ली से मोदी और बीजेपी की सरकार को हटाने जा रहे हैं।”

लोकप्रिय