हालात

राफेल पर ताजा रिपोर्ट से बुरे फंसे पीएम! राहुल बोले- रक्षा मंत्रालय को दरकिनार कर मोदी ने करवाई थी डील

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर पीएम मोदी पर ताजा हमला बोला है। राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने खुद एयफोर्स का 30 हजार करोड़ रुपये चोरी करके अनिल अंबानी को दिलवाया है।

फोटो: @INCIndia

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर राफेल डील को लेकर पीएम मोदी पर बड़ा हमला बोला है। इस मुद्दे पर दिल्ली के कांग्रेस मुख्यालय में उन्होंने प्रेस को संबोधित किया। राहुल गांधी ने कहा कि यह बात अब एक दम साफ हो गई है कि राफेल डील में पीएम मोदी ने चोरी की है।

राहुल ने कहा कि वायुसेना, आर्मी और नेवी के जवानों से मैं बात करना चाहता हूं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा मैं उन्हें यह बताना चाहता हूं कि पीएम मोदी ने खुद एयफोर्स का 30 हजार करोड़ रुपये चोरी करके अनिल अंबानी को दिलवाया है। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि वायुसेना के लोग कहते हैं कि पीएम मोदी ने हमें दरकिनार कर खुद अपनी टीम के साथ इस डील को करवाया।

राहुल गांधी ने प्रेस से बात के दौरान अंग्रेजी अखबार 'द हिंदू' में छपी एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए पीएम मोदी को घेरा। उन्होंने का कि इस रिपोर्ट से साफ होता है कि राफेल डील में लूट हुई है और इस लूट के लिए सीधे तौर पर पीएम मोदी जिम्मेदार हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि राफेल पर मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से झूठ बोला, पूरे फैसले पर ही सवाल खड़ा हो गया है, क्योंकि जिस कैग रिपोर्ट को पेश किया जाना था, वो कभी पेश ही नहीं हुई।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “हम सच्चाई को सामने लेकर आए और अब हम इसे और आगे ले जाएंगे। हमने अपना कर्तव्य निभाया, अब पत्रकारों का कर्तव्य है कि वो देश के लोगों को बताएं कि पीएम मोदी चोर हैं, मुझे कड़े शब्द बोलने पड़ रहे हैं, लेकिन यह सच है।”

'द हिंदू' में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, राफेल डील को लेकर फ्रांस सरकार के साथ रक्षा मंत्रालय की ओर से की जा रही डील के दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय के दखल का फायदा फ्रांस को मिला था। रिपोर्ट के अनुसार राफेल डील पर दोनों देशों की ओर से शीर्ष स्तर पर हो रही बातचीत में पीएमओ के 'सामानांतर दखल' का भारतीय रक्षा मंत्रालय ने कड़ा विरोध जताया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएमओ के 'सामानांतर दखल' के चलते रक्षा मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय की टीम सौदे को लेकर बातचीत कमजोर पड़ गई। 24 नवंबर, 2015 को इस बात का तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी संज्ञान में लिया था। इसी रिपोर्ट का हवाला देते हुए राहुल गांधी ने प्रेस से बात करते हुए मोदी सरकार से मांग की कि वह इस मामले में जांच कराए।

Published: 8 Feb 2019, 11:44 AM
लोकप्रिय