गुवाहाटी में गरजे राहुल गांधी, कहा- असम को नागपुर नहीं चलाएगा, हर जगह नफरत फैलाना बीजेपी का काम

राहुल गांधी ने कहा, ‘हम बीजेपी और आरएसएस को असम की हिस्ट्री, भाषा, संस्कृति पर आक्रमण नहीं करने देंगे। असम को नागपुर नहीं चलाएगा। असम को असम की जनता चलाएगी। ये सोचें कि नॉर्थ-ईस्ट की हिस्ट्री है, भाषाएं हैं, कल्चर हैं, हम इसको दबा दें।’

फोटो@INC
फोटो@INC
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने आज (शनिवार) गुवाहाटी में रैली की। राहुल गांधी ने नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में एक रैली को संबोधित किया। संशोधित कानून के विरोध में बीते दिनों असम में काफी हिंसा हुई थी। जिसके बाद शनिवार को राहुल ने गुवाहाटी में रैली की। राहुल ने मोदी सरकार और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर निशाना साधते हुए कहा, 'असम के युवा इस कानून के खिलाफ प्रोटेस्ट कर रहे हैं, बाकी जगहों पर युवा प्रोटेस्ट कर रहे हैं। पुलिस को गोली मारने की क्या जरूरत है। जान लेने की क्या जरूरत है। ये लोग युवाओं, माताओं-बहनों की आवाज को कुचलना चाहते हैं। बीजेपी हर जगह नफरत फैलाती है।'

राहुल गांधी ने कहा, 'हम बीजेपी और आरएसएस को असम की हिस्ट्री, भाषा, संस्कृति पर आक्रमण नहीं करने देंगे। असम को नागपुर नहीं चलाएगा। असम को असम की जनता चलाएगी। ये सोचें कि नॉर्थ-ईस्ट की हिस्ट्री है, भाषाएं हैं, कल्चर हैं, हम इसको दबा दें। इन्होंने नॉर्थ-ईस्ट के लोगों को नहीं पहचाना। हमने संसद में साफ कह दिया था कि हम इस बिल को पास नहीं होने देंगे। हम असम की जनता पर हमला नहीं होने देंगे। चाहें जो भी हो, हिंदुस्तान के किसी भी नागरिक को नुकसान नहीं होना चाहिए।'

उन्होंने आगे कहा, 'मैं असम में हुई हिंसा में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलूंगा। हिंसा नहीं होनी चाहिए। प्यार-भाइचारे से सब काम हो जाएगा।' गौरतलब है कि आज कांग्रेस का स्थापना दिवस भी है। इस मौके पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने देशभर में 'संविधान बचाओ' रैली निकाली। मुंबई रैली में हजारों की संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए। कार्यकर्ताओं ने शांतिपूर्ण तरीके से रैली निकाली और नागरिकता कानून के विरोध में नारेबाजी की।

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि बीजेपी की सरकार युवाओं, माताओं बहनों की बातों को नहीं सुनना चाहती है। राहुल ने कहा कि CAA पर कहा कि यह नोटबंदी 2 है। उन्‍होंने कहा असम नफरत और गुस्से से आगे नहीं बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि असम अकॉर्ड के जरिए असम में शांति आई है। कहा कि असम अकॉर्ड की स्पीरिट को खत्म नहीं करना चाहिए।

लोकप्रिय