राहुल बोले- बिहार चुनाव के दौरान युवती को जिंदा जलाने के मामले को दबाया, ताकि कुशासन पर झूठे ‘सुशासन’ की रख सकें नींव

आरोप है कि वैशाली पुलिस ने युवती को जिंदा जलाने के मामले को चुनाव के दौरान दबा दिया ताकि माहौल ना बिगड़े। युवती ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। युवती को जिंदा जलाकर मार डालने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार चुनाव के दौरान वैशाली में छेड़खानी का विरोध करने पर युवती को जिंदा जलाने और फिर इस मामले को चुनाव के दौरान दबाने को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने नीतीश सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “किसका अपराध ज्यादा खतरनाक है- जिसने ये अमानवीय कर्म किया? या जिसने चुनावी फायदे के लिए इसे छुपाया ताकि इस कुशासन पर अपने झूठे 'सुशासन' की नींव रख सके?”

आरोप है कि वैशाली पुलिस ने युवती को जिंदा जलाने के मामले को चुनाव के दौरान दबा दिया ताकि माहौल ना बिगड़े। वहीं, अब युवती ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। युवती को जिंदा जलाकर मार डालने का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है। घटना के 15 दिन बाद भी किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी न होने से गुस्साए लोगों ने रविवार देर रात प्रदर्शन किया, हालांकि पुलिस की दखल के बाद देर रात ही लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया गया।


वैशाली में छेड़खानी का विरोध करने पर 20 साल की एक युवती को गांव के दबंगों ने जिंदा जला दिया था। यह घटना देसरी थाने के रसूलपुर हबीब की है। गांव के ही कुछ लड़कों ने छेड़खानी को लेकर विवाद के बाद लड़की पर केरोसिन डाल जिंदा जला दिया था। लड़की का पटना पीएमसीएच में इलाज चल रहा था, जहां 15 दिन बाद पीड़िता ने दम तोड़ दिया। युवती के के घरवालों का आरोप है कि जब उन्होंने आरोपी के घरवालों से छेड़खानी की शिकायत की तो दबंग लड़के ने अपने दो साथियो के साथ लड़की को घर के पास पकड़ लिया और जिंदा जला दिया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 17 Nov 2020, 9:32 AM