वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड़ परायी जाणे रे...

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने लखीमपुर खीरी हिंसा में शहीद हुए किसान लवप्रीत के घर पहुचंकर उनके परिवार से मुलाकात की। राहुल गांधी ने कहा कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा, तब तक ये सत्याग्रह चलता रहेगा।

सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और कांग्रेस सांसद राहुल गांधी बुधवार देर रात उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया गांव पहुंचे। वहां कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने 3 अक्टूबर की हिंसा में शहीद हुए किसानों के परिवार से मुलाकात की। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सबसे पहले पलिया के चौकाघाट पहुंचे। यहां इन्होंने शहीद किसान लवप्रीत (20) के परिवार से मुलाकात की। लवप्रीत के माता-पिता राहुल प्रियंका को देखकर रोने लगे। इसके बाद राहुल-प्रियंका ने लवप्रीत के माता-पिता को ढाढस बंधाते हुए अपने सीने से लगा लिया।

मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने लिखा, "शहीद लवप्रीत के परिवार से मिलकर दुख बांटा, लेकिन जब तक न्याय नहीं मिलेगा, तब तक यह सत्याग्रह चलता रहेगा।" उन्होंने आगे लिखा, "तुम्हारा बलिदान नहीं भूलेंगे लवप्रीत..."

इस मुलाकात के दौरान छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी उनके साथ थे। इसके बाद कांग्रेस का काफिला निघासन पहुंचा। राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने निघासन में पत्रकार रमन कश्यप के परिवार से मुलाकात की। रमन कश्यप की मौत भी 3 अक्टूबर को लखीमपुर की हिंसा में हुई थी। इस मुलाकात की तस्वीरें शेयर करते हुए कांग्रेस ने लिखा, ""पत्रकारों पर हमला संविधान पर हमला है और पत्रकारों की हत्या संविधान की हत्या है।"


कांग्रेस नेता इसके बाद धौरहरा के गांव रमनदीन पुरवा के शहीद किसान नक्षत्र सिंह (65) के घर गए। बताया जा रहा है कि कांग्रेस नेता कल बहाराइच जा सकते हैं। वे यहां दलजीत और गुरविंदर के परिवार से मिलेंगे।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia