राहुल बोले- हम बलिदान को बेकार नहीं होने देंगे, जो अभी भी चुप, वो पहले ही मर चुका, कल लखीमपुर खीरी जाएंगी प्रियंका

कांग्रेस ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी में किसानों के विरोध प्रदर्शन में हुई हिंसा के मद्देनजर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने की मांग की।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी में किसानों के विरोध प्रदर्शन में हुई हिंसा के मद्देनजर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने की मांग की। हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत हो गई और अन्य 15 घायल हो गए। कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, "हम मांग करते हैं कि गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को तुरंत बर्खास्त किया जाए। सरकार को घटना की जांच सर्वोच्च न्यायालय के एक मौजूदा न्यायाधीश से करना चाहिए।"

उन्होंने बीजेपी कार्यकर्ताओं को कथित तौर पर किसानों पर हमला करने का निर्देश देने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को भी बर्खास्त करने की अपील की और उम्मीद जताई कि शीर्ष अदालत मामले का तुरंत संज्ञान लेगी।


यूपी के लखीमपुर-खीरी जिले में कृषि कानूनों के विरोध प्रदर्शन ने तब हिंसक रूप ले लिया, जब अज्ञात व्यक्तियों ने किसानों पर गोलियां चला दीं। कुछ प्रदर्शनकारियों के वाहनों की चपेट में आने से आक्रोशित किसानों ने तीन जीपों में आग लगा दी। इनमें से एक वाहन केंद्रीय मंत्री के अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा का बताया जा रहा है।

हिंसा के मद्देनजर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि किसानों का बलिदान बेकार नहीं जाएगा।
उन्होंने हिंदी में एक ट्वीट में कहा, "जो लोग इस तरह के अमानवीय नरसंहार को देखकर चुप हैं, वे पहले ही मर चुके हैं। लेकिन हम इस बलिदान को बेकार नहीं जाने देंगे, किसान सत्याग्रह जिंदाबाद।"


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के सोमवार को लखीमपुर-खीरी जाने की उम्मीद है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, "बीजेपी भारत के किसानों से कितनी नफरत करती है? क्या उन्हें (किसानों को) जीने का अधिकार नहीं है? अगर वे अपनी आवाज उठाते हैं तो क्या आप उन पर गोलियां चलाएंगे, उन्हें वाहनों के नीचे रौंदेंगे? बहुत हो गया। यह किसानों की भूमि है, भाजपा की क्रूरता का क्षेत्र नहीं है।"

उन्होंने आगे लिखा, "किसानों का आंदोलन और मजबूत होगा, और उनकी आवाज बुलंद होती रहेगी।"

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia