‘मोदी के बजट पर सेंसेक्स का 800 बिंदुओं का अविश्वास प्रस्ताव’: राहुल का मोदी सरकार पर कटाक्ष

मोदी सरकार का बजट आने के बाद शेयर बाजार में आईगिरावट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जबरदस्त कटाक्ष किया है। उन्होंने कहाकि यह मोदी के बजट के खिलाफ सेंसेक्स का ‘अविश्वास प्रस्ताव’ है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मोदी सरकार का बजट आने के बाद शेयर बाजार में आई गिरावट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जबरदस्त कटाक्ष किया है। उन्होंने कहा कि यह मोदी के बजट के खिलाफ सेंसेक्स का 'अविश्वास प्रस्ताव' है। गौरतलब है कि शुक्रवार को बीएसई के सेंसेक्सस में 800 से ज्यादा अंकों की गिरावट दर्ज की गई।

राहुल गांधी ने उन्होंने ट्वीट किया कि, “संसदीय भाषा में मोदी सरकार के बजट के खिलाफ यह सेंसेक्स का 800 बिंदुओं का अविश्वास प्रस्ताव है।” उन्होंने अपने ट्वीट के साथ 'बस एक और साल' का हैशटैग भी इस्तेमाल, जिसका मतलब है कि मोदी सरकार का सिर्फ एक साल बचा है।

शुक्रवार को देश के शेयर बाजार में हाहाकार मचा रहा और कारोबार खत्म होते होते बीएसई के संवेदी सूचकांक सेंसेक्स में 839 और एनएसई के निफ्टी में 256 अंकों की गिरावट दर्ज हुई। आंकड़े बताते हैं कि अगस्त 2017 के बाद सेंसेक्स में एक दिन की यह सबसे बड़ी गिरावट है। शेयर बाजार की इस मंदी से शेयरधारकों के करीब 5 लाख करोड़ रुपए देखते देखते स्वाहा हो गए।

‘मोदी के बजट पर सेंसेक्स का 800 बिंदुओं का अविश्वास प्रस्ताव’: राहुल का मोदी सरकार पर कटाक्ष

कांग्रेस अध्यक्ष के ट्वीट में इस्तेमाल हैशटैग सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। कांग्रेस पार्टी ने भी इसी हैशटैग को इस्तेमाल करते हुए ट्वीट किया कि, “2018 के बजट में कोई दिशा नजर नहीं आती, और इससे साफ है कि मोदी सरकार के पास देश को देने के लिए अब कुछ नहीं बचा है। शुक्र है कि इस नाकाबिल सरकार का सिर्फ एक साल ही बचा है।”

लेकिन सरकार ने इस गिरावट को अस्थाई बताया है। सरकार के आर्थिक मामलों के मंत्रालय के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने एक इंटरव्यू में कहा कि, 'मार्केट एलटीसीजी यानी लांग टर्म कैपिटल गेंस टैक्स पर रिएक्ट कर रहा है। इसका आगे भी असर दिख सकता है, लेकिन मेरा मानना है कि यह एक शॉर्ट टर्म फिनोमिना है।'

इसे भी पढ़े: बजट की मार से हांंफा शेयर बाजार, अगस्त 2017 के बाद की सबसे बड़ी गिरावट

Published: 2 Feb 2018, 10:50 PM
लोकप्रिय