आतंकी मॉड्यूल के मास्टरमाइंड को पकड़ने के लिए देशभर में छापेमारी, ISI से ले चुका है ट्रेनिंग

आतंकी मॉड्यूल हुमैद के संदिग्ध मास्टरमाइंड को पकड़ने के लिए गुरुवार को राज्यों की आतंकवाद विरोधी इकाइयों और दिल्ली स्पेशल सेल के अधिकारियों द्वारा देशभर के कई इलाकों में छापेमारी की जा रही है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

आईएएनएस

आतंकी मॉड्यूल हुमैद के संदिग्ध मास्टरमाइंड को पकड़ने के लिए गुरुवार को राज्यों की आतंकवाद विरोधी इकाइयों और दिल्ली स्पेशल सेल के अधिकारियों द्वारा देशभर के कई इलाकों में छापेमारी की जा रही है। आरोप है कि गिरफ्तार आरोपी हुमैद ओसामा का रिश्तेदार है, जो दिल्ली के जामिया नगर का रहने वाला है। वह भारत में पूरे आतंकी नेटवर्क को कोऑर्डिनेट कर रहा था।

पुलिस ओसामा के पिता हुमैद-उर-रहमान को भी तलाश कर रही है। उसका ठिकाना अज्ञात है।
जांच की जानकारी रखने वाले एक शीर्ष आईपीएस अधिकारी ने कहा, हुमैद की आखिरी लोकेशन उत्तर प्रदेश में थी। हम उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते के संपर्क में हैं और विभिन्न स्थानों पर छापेमारी की जा रही है।

आरोप है कि हुमैद ने उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद निवासी ओसामा और जीशान कमर को पाकिस्तान में ट्रेनिंग के लिए ओमान एटो के मस्कट भेजा था। जब वे मस्कट पहुंचा, तो पाकिस्तान इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) उसे विस्फोटक और बम बनाने में प्रशिक्षित करने के लिए समुद्री मार्गों से ग्वादर बंदरगाह ले गई।

ओसामा और जीशान कमर को पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह के पास जिओनी नाम के एक कस्बे में बम और आईईडी बनाने और रोजाना इस्तेमाल की जाने वाली चीजों की मदद से आग लगाने का प्रशिक्षण दिया गया था। उन्हें छोटे फायरआर्म्स और एके-47 को संभालने और इसे इस्तेमाल करने की भी ट्रेनिंग दी गई थी।


पूछताछ में पता चला कि ओसामा अप्रैल में मस्कट, ओमान के लिए रवाना हुआ था, जहां उसकी मुलाकात जीशान से हुई, जो भारत से भी आया था। उनके साथ 15-16 बंगाली भाषी लोग शामिल हुए। उन्हें कई ग्रुपों में बांटा गया और जीशान और ओसामा को एक ग्रुप में रखा गया।

अगले कुछ दिनों में, कई छोटी समुद्री यात्राओं के बाद, कई बार नांव बदलने के बाद, उन्हें पाकिस्तान में ग्वादर बंदरगाह के पास जिओनी शहर ले जाया गया। वहाँ उनका स्वागत एक पाकिस्तानी ने किया जो उन्हें पाकिस्तान के थट्टा में एक फार्महाउस में ले गया।

फार्महाउस में तीन पाकिस्तानी नागरिक थे। इनमें से दो, जब्बार और हमजा ने उन्हें ट्रेनिंग दी। ये दोनों पाकिस्तानी सेना से थे क्योंकि उन्होंने सैन्य वर्दी पहनी थी। उन्हें बम और आईईडी बनाने और रोज मर्रा की चीजों की मदद से आग लगाने की ट्रेनिंग दी गई। उन्हें छोटे फायरआर्म्स और एके-47 को संभालने और इस्तेमाल करने की भी ट्रेनिंग दी गई।

यह ट्रेनिंग लगभग 15 दिनों तक चली और उसके बाद, उन्हें उसी मार्ग से मस्कट वापस ले जाया गया। गिरफ्तार किए गए चार आरोपियों में ओसामा और जीशान के अलावा महाराष्ट्र के मुंबई निवासी जान मोहम्मद शेख, यूपी के रायबरेली निवासी मूलचंद, यूपी के बहराइच निवासी मोहम्मद अबू बकर और यूपी के लखनऊ निवासी मोहम्मद आमिर जावेद के रूप में पहचान की गई है।

सभी आरोपी 14 दिनों की पुलिस हिरासत में हैं। साजिश के तहत गिरफ्तार किए गए लोगों को अलग-अलग आतंकी योजना के विभिन्न पहलुओं को अंजाम देने का काम सौंपा गया था। देश के विभिन्न हिस्सों में आतंकी हमलों को अंजाम देने की साजिश के बारे में केंद्रीय खुफिया एजेंसियों से गुप्त सूचना मिलने के बाद स्पेशल सेल ने आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया। इसके बाद, स्पेशल सेल ने एक बहु-आयामी ऑपरेशन किया, जिसमें कई टीमें महाराष्ट्र के मुंबई और लखनऊ, प्रयागराज, राय-बरेली, प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश (यूपी) में एक साथ तैनात थीं।


14 सितंबर को, मानव और तकनीकी नोड्स के माध्यम से एकत्र की गई खुफिया जानकारी के आधार पर, विभिन्न राज्यों में एक साथ छापे मारे गए। शुरुआत में, अंडरवल्र्ड ऑपरेटिव जान मोहम्मद शेख को राजस्थान के कोटा के पास से पकड़ा गया था, जब वह दिल्ली जा रहा था, ओसामा को दिल्ली के ओखला से पकड़ा गया था, मोहम्मद अबू बकर को दिल्ली के सराय काले खां से पकड़ा गया, जीशान को यूपी के इलाहाबाद से गिरफ्तार किया गया था, मोहम्मद आमिर जावेद को यूपी के लखनऊ से और मूलचंद को भी यूपी के रायबरेली से दबोचा गया था। यूपी में ऑपरेशन उत्तर प्रदेश एटीएस के अधिकारियों के साथ घनिष्ठ और सफल समन्वय में किया गया था।

जांच के दौरान यह पाया गया कि अंडरवल्र्ड ऑपरेटिव जान मोहम्मद शेख को मूलचंद के साथ पाकिस्तान स्थित दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम ने दिल्ली में इसे रिसीव करने का काम सौंपा था। इसे दिल्ली और मुंबई समेत देश के अन्य हिस्सों में अन्य आतंकी गुर्गों को सौंपा जाना था। इसके बाद, आईईडी की समान खेपों की आगे सुपुर्दगी उसी चैनल के माध्यम से की जानी थी।

पाकिस्तान-आईएसआई के इशारे पर काम करने वाले अंडरवल्र्ड कोमपोनेंट को दो काम सौंपे गए थे, जिसमें हवाला चैनलों के माध्यम से हथियारों और विस्फोटकों का परिवहन और आतंकी फंडिंग शामिल है। पाक-आईएसआई प्रशिक्षित आतंकी गुटों को लक्ष्य की पूरी जानकारी लेने और आईईडी लगाने का काम सौंपा गया था। पुलिस ने कहा कि इस नेटवर्क के बारे में और नोड्स की पहचान की जा रही है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia