कोयला संकट समेत कई वजहों से पिछले 5 महीने में रेलवे ने 9 हजार से अधिक ट्रेनों को किया रद्द, यात्री हुए परेशान

रेलवे के इस कदम से गर्मी महीने के दौरान यात्रियों को काफी परेशानी का समाना करना पड़ा। यात्रियाओं को कंफर्म टिकट नहीं मिल पाई जिस वजह से पिछले कुछ महीने में रेलवे टिकटों की मांग भी बढ़ी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

कोयला संकट और अन्य कई वजह से पिछले 5 महीने में रेलवे 9,000 से अधिक ट्रेनों को कैंसिल कर चुका है। इसमें से 1,900 से अधिक ऐसी ट्रेन हैं।

कोविड महामारी के बाद भारतीय रेलवे भले ही तमाम सुविधाओं को सामान्य कर चुकी है। यात्रियों के सफर को आसान बनाने के लिए आए दिन नए कदम उठा रही है लेकिन उसके बावजूद यात्रियों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है दरअसल इसकी खास वजह यह है कि रेलवे ने पिछले 5 महीने में 9000 से अधिक ट्रेनों को कैंसिल किया है जिसकी वजह से यात्रियों को कंफर्म टिकट नहीं मिल पाई या वे समय पर यात्रा नहीं कर पाए।

सूचना के अधिकार के तहत जानकारी निकल कर सामने आई है रेलवे ने इस साल 2022 के दौरान ही पिछले 5 महीने से अधिक समय में 9,000 से अधिक ट्रेनों को रद्द किया है। इसमें से 1,900 से अधिक केवल ऐसी ट्रेन हैं, जो कोयला संकट की वजह से पिछले तीन माह में प्रभावित हुई हैं।

चंद्रशेखर गौर की ओर से दायर की गई आरटीआई के तहत राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर ने जानकारी देते हुए बताया कि उसने रखरखाव या निर्माण उद्देश्यों के लिए पिछले दिनों 6,995 ट्रेन सेवाओं को रद्द कर दिया, जबकि मार्च से मई तक 1,934 ट्रेन सेवाएं केवल कोयले की आवाजाही के कारण रद्द कर दी गईं। पिछले दिनों बिजली संकट की समस्या को दूर करने के लिए रेलवे ने कोयले की आपूर्ति के लिए इन ट्रेनों को रद्द किया था। वहीं जनवरी से मई तक 3,395 मेल व एक्सप्रेस ट्रेन सेवाओं को रद्द कर दिया, जबकि इसी अवधि के दौरान रखरखाव कारणों या निर्माण कार्यों के कारण 3,600 यात्री ट्रेन सेवाएं रद्द कर दी गईं।

हालंकि रेलवे के इस कदम से गर्मी महीने के दौरान यात्रियों को काफी परेशानी का समाना करना पड़ा। यात्रियाओं को कंफर्म टिकट नहीं मिल पाई जिस वजह से पिछले कुछ महीने में रेलवे टिकटों की मांग भी बढ़ी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia