उत्तराखंड-केरल में आफत की बारिश, जानें दिल्ली-एनसीआर में कैसा रहेगा मौसम

राष्ट्रीय राजधानी में भी रविवार और सोमवार को जमकर बारिश हुई। हालांकि आज (मंगलवार) 'मुख्य रूप से साफ आसमान' रहने का अनुमान जताया है, जहां अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 19.9 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

केरल के बाद पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में भी बारिश और लैंडस्लाइड ने तबाही मचा दी है। तेज बारिश के कारण जन जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बारिश के कारण हुए भूस्खलन से कई हाइवे और सड़कों को बंद कर दिया गया है। चारधाम यात्रा पर भी फिलाहल रोक लगा दी गई है। बारिश से हुए हादसों में दो महिलाओं समेत तीन की मौत हो गई है। वहीं केरल में भी बारिश ने दो दर्ज से ज्यादा लोगों की जिंदगियां लील ली है।

राष्ट्रीय राजधानी में भी रविवार और सोमवार को जमकर बारिश हुई। हालांकि आज (मंगलवार) 'मुख्य रूप से साफ आसमान' रहने का अनुमान जताया है, जहां अधिकतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 19.9 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है। इसकी जानकारी भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार को दी।


आईएमडी के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में अक्टूबर में अब तक 94.6 मिमी बारिश हुई है, जो 65 वर्षों में सबसे अधिक है, जब 1956 में पूरे महीन में 236.2 मिमी बारिश हुई थी। जो 24 घंटे की वर्षा भी तब से सबसे ज्यादा है। सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने कहा कि दिल्ली-एनसीआर का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) सोमवार शाम को अच्छा हो गया, जिसमें पीएम 2.5 प्रदूषक 43 और पीएम10, 25 पर दर्ज किया गया।

दिल्ली में आमतौर पर हवा की गुणवत्ता अच्छी से संतोषजनक होती है। हालांकि, पराली जलाने, सड़क की धूल, वाहन प्रदूषण और ठंड के मौसम सहित विभिन्न कारकों के कारण अक्टूबर से फरवरी के दौरान प्रदूषण का स्तर एक्यूआई में गिरावट का कारण बनता है।


विशेष रूप से, दिल्ली में 36 निगरानी केंद्र हैं जो दोनों कणों के स्तर को सटीक रूप से रिकॉर्ड करते हैं। सुबह 9.45 बजे नवीनतम अपडेट के अनुसार, अन्य प्रदूषक नाइट्रोजन डाइऑक्साइड (एनओ2) और ओजोन (ओ3) क्रमश: 12 और 76 दर्ज किए गए। कार्बन मोनोऑक्साइड (सीओ) के आंकड़े उपलब्ध नहीं थे।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia