राजस्थानः कांग्रेस सरकार ने पूरा किया एक और वादा, 500 रुपये में गैस सिलेंडर देकर लोगों को दी बड़ी राहत

यह योजना उन परिवारों के लिए है, जो राजस्थान में बीपीएल श्रेणी में हैं या केंद्र की उज्ज्वला योजना के तहत गैस सिलेंडर लेते हैं। इस योजना से 70 लाख परिवारों को लाभ मिलेगा। 500 रुपये में हर साल 12 सिलेंडर मिलेंगे। इससे सरकार पर 3300 करोड़ रुपये का भार पड़ेगा।

राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने 500 रुपये में गैस सिलेंडर देकर लोगों को दी बड़ी राहत
राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने 500 रुपये में गैस सिलेंडर देकर लोगों को दी बड़ी राहत
user

नवजीवन डेस्क

ऐसे समय में जब पूरे देश में लोग महंगाई से जूझ रहे हैं और दो वक्त की रोटी जुटाना मुश्किल हो रहा है, राजस्थान में कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार ने 500 रुपये में गैस सिलेंडर उपलब्ध कराकर लोगों को मंहगाई से बहुत बड़ी राहत दी है। इसी के साथ राजस्थान 500 रुपये में गैस सिलेंडर उपलब्ध कराने वाला देश का एकमात्र राज्य बन गया है

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने योजना शुरू करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, ''हम बचत और राहत के बारे में बात कर रहे हैं। यह हमारे बजट का विषय था और हम लोगों को राहत दे रहे हैं।” उन्होंने कहा, "यह सामाजिक सुरक्षा है, इस तरह की योजनाएं और स्वास्थ्य का अधिकार सभी देशवासियों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर लागू किया जाना चाहिए।"

500 रुपये की एलपीजी योजना केवल उन परिवारों के लिए है, जो राजस्थान में बीपीएल श्रेणी में हैं या केंद्र की उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी गैस सिलेंडर लेते हैं। राजस्थान सरकार ऐसे ग्राहकों को 500 रुपये में यह सिलेंडर उपलब्ध कराएगी। फिलहाल राजस्थान में आम तौर पर एक सिलेंडर 1050 रुपये के आसपास मिलता है। इस योजना से 70 लाख उपभोक्‍ताओं को लाभ मिलेगा  और सरकार पर 33 सौ करोड़ रुपयों का भार पड़ेगा। सरकार इस पांच सौ रुपये की दर से हर साल 12 सिलेंडर उपलब्‍ध कराएगी। 

अधिकारियों के अनुसार राजस्थान में 70 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को उज्ज्वला योजना के तहत 850 रुपये प्रति सिलेंडर की दर से सिलेंडर मिलता है। उज्ज्वला उपभोक्ताओं को केंद्र से 200 रुपये की सब्सिडी मिलती है। राजस्थान में बीपीएल श्रेणी में 6 लाख उपभोक्ता पंजीकृत हैं। इस प्रकार, राजस्थान में बीपीएल श्रेणी के 6 लाख से अधिक उपभोक्ताओं को सामान्य दर 1050 रुपये प्रति सिलेंडर पर गैस मिलती है। उन्हें उज्ज्वला योजना के तहत 200 रुपये की सब्सिडी भी नहीं मिलती है।


राजस्थान के खाद्य विभाग और केंद्र के पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल का मानना है कि राजस्थान में औसतन 3 से 4 लोगों का परिवार एक सिलेंडर का इस्तेमाल करता है। ऐसे में जब राजस्थान सरकार इन 70 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं को सस्ता सिलेंडर देगी तो इसका सीधा असर करीब 2.25 करोड़ लोगों पर पड़ेगा। इससे पहले राज्य मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि सरकार उन सभी लोगों को लाभ देना चाहती है, जिन्हें उज्ज्वला के नाम पर ठगा गया है।

दरअसल मोदी सरकार की प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) शुरू होने के बाद से घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत दोगुनी से अधिक हो गई है। परिणामस्वरूप, लाभार्थी परिवारों को हर महीने अपना सिलेंडर दोबारा भरवाने में कठिनाई हो रही है। लेकिन राजस्थान सरकार ने एक बहुत ही अलग मॉडल पेश किया है, जो पूरे राज्य और देश भर में चर्चा का विषय बन गया है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरकार का रसोई गैस सिलेंडर 500 रुपये में देने का बड़ा वादा था, जो हाल ही में लागू हुआ है। इस कदम को राज्य की महिलाए खूब सराह रही हैं, जो खासकर पीएमयूवाई शुरू होने के बाद लोकसभा चुनावों के दौरान बीजेपी का समर्थन करने के लिए जानी जाती थीं। यह देश में दी जाने वाली सबसे बड़ी रसोई गैस सब्सिडी है।

यह पहला बड़ा वादा अशोक गहलोत सरकार ने पिछले साल दिसंबर में किया था। इसके तुरंत बाद अगला कदम उठाया गया, हर परिवार को 100 यूनिट मुफ्त बिजली देने का। फरवरी में, सरकार ने अपनी प्रमुख स्वास्थ्य योजना चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की कवरेज राशि को प्रति परिवार 10 लाख रुपये से बढ़ाकर 25 लाख रुपये प्रति वर्ष करने की भी घोषणा की।

अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान सामाजिक सुरक्षा, शिक्षा, चिकित्सा, स्वास्थ्य, सूचना प्रौद्योगिकी, महिला सशक्तिकरण और रोजगार सहित हर क्षेत्र में देश का एक मॉडल राज्य बन गया है। राजस्थान देश का एकमात्र राज्य है जिसने मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत 25 लाख रुपये तक के मुफ्त इलाज और 10 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा, मुफ्त दवाओं और जांच सुविधाओं सहित कानून बनाकर स्वास्थ्य का अधिकार प्रदान किया है।


सीएम गहलोत ने कहा कि राज्य में आईआईटी, आईआईएम, एनआईएफटी जैसे विश्व स्तरीय संस्थान खुले हैं। दुधारू पशुओं का बीमा, अन्नपूर्णा आहार किट, मुख्यमंत्री ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना और इंदिरा गांधी शहरी रोजगार गारंटी योजना के तहत कमजोर वर्गों को 125 दिन की रोजगार गारंटी दी जा रही है। राज्य में हर क्षेत्र में उल्लेखनीय काम हुआ है।

घरेलू गैस वितरक संघ के प्रतिनिधिमंडल से बात करते हुए सीएम गहलोत ने कहा, ''हम 'राजस्थान मिशन-2030' में 1 करोड़ लोगों से सुझाव और सलाह ले रहे हैं।' उन्होंने एलपीजी गैस वितरकों से मिशन-2030 में अपने सुझाव भेजने को कहा। कार्यक्रम में संघ के अध्यक्ष डॉ. दीपक सिंह ने गैस सिलेंडर वितरकों से संबंधित विभिन्न विषयों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। संघ के सदस्यों ने पात्र लोगों को 500 रुपये में सिलेंडर उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;