अलवर लिंचिंगः राजस्थान हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, मृतक पहलू खान और बेटों पर दर्ज एफआईआर-चार्जशीट रद्द

पुलिस चार्जशीट में पहलू खान समेत उनके दोनों बेटों इरशाद और आसिफ को गो तस्करी का दोषी बताया गया था। खास बात ये है कि पहलू खान की लिंचिंग कर हत्या करने के मामले में अलवर की एक जिला अदालत ने पुलिस जांच के आधार पर बीते दिनों सभी 6 आरोपियों को बरी कर दिया था।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान के अलवर में गौ रक्षा के नाम पर मॉब लिंचिंग का शिकार हुए पहलू खान और उनके बेटों के खिलाफ दर्ज एफआईआर और पुलिस चार्जशीट को राजस्थान हाईकोर्ट ने निरस्त करने का आदेश दिया है। हाईकोर्ट ने बुधवार को अपने आदेश में मृतक पहलू खान और उनके दो बेटों और पिकअप वैन के ड्राइवर के खिलाफ दर्ज एफआईआर और उसमें दाखिल चार्जशीट को रद्द करने का आदेश दिया है।

गौरतलब है कि अप्रैल 2017 में हरियाणा के नूंह के रहने वाले पहलू खान जयपुर से दो गाय खरीदकर अपने घर ले जा रहे थे। तभी रास्ते में अलवर के पास गोरक्षकों की एक भीड़ ने गाड़ी रोककर उनपर हमला बोल दिया और पहलू खान को गो-तस्करी करने के आरोप में पीट-पीटकर मार डाला। इस मामले में तत्कालीन बीजेपी सरकार में पुलिस ने पुलिस ने मॉब लिंचिंग के आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करने के साथ ही पहलू खान और उनके बेटों पर भी गो तस्करी के आरोप में केस दर्ज किया था।

इस एफआईआर पर पुलिस द्वारा तैयार चार्जशीट में पहलू खान समेत उनके दोनों बेटों इरशाद और आसिफ को गो तस्करी का दोषी बताया गया था। चार्जशीट में इरशाद और आसिफ के खिलाफ पशुवध निषेध और निर्यात पर प्रतिबंध कानून की धारा 5, 8 और 9 के तहत आरोप सही बताया गया था। खास ये है कि पहलू खान की लिंचिंग के मामले में अलवर की एक अदालत ने सभी 6 आरोपियों को बरी कर दिया था।

इसको गंभीरता से लेते हुए खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सामने आए और उन्होंने मामले की फिर से जांच का ऐलान करते हुए एक एसआईटी के गठन का आदेश दिया। एसआईटी ने बीते सितंबर में गहलोत सरकार को अपनी जांच रिपोर्ट सौंप दी है, जिसमें पुलिस अधिकारियों द्वारा जांच में लापरवाही करने की बात सामने आई है। फिलहाल निचली अदालत के फैसले के खिलाफ राजस्थान सरकार ने हाईकोर्ट में अपील दायर की हुई है।

लोकप्रिय
next