अश्लील वीडियो मामले में गहलोत सरकार का बड़ा कदम! निलंबित DSP और महिला कांस्टेबल को सेवा से किया बर्खास्त

बता दें, दोनों को कथित तौर पर एक अश्‍लील वीडियो क्लिप के बाद कांस्टेबल के नाबालिग बेटे की उपस्थिति में यौन गतिविधियों में शामिल दिखाने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान की गहलोत सरकारम अश्लील वीडियो के आरोप में निलंबित पुलिस उपाधीक्षक और महिला कांस्टेबल को सेवा से बर्खास्त कर दिया है। आपको बता दें, दोनों को कथित तौर पर एक अश्‍लील वीडियो क्लिप के बाद कांस्टेबल के नाबालिग बेटे की उपस्थिति में यौन गतिविधियों में शामिल दिखाने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस महानिदेशक एमएल लाठेर ने पुष्टि की कि दोनों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है। यह कार्रवाई राजस्थान सिविल सेवा नियमावली के तहत की गई है। वीडियो वायरल होने के बाद, पुलिस विभाग ने 8 सितंबर को दोनों कर्मियों को निलंबित कर दिया था। विशेष अभियान समूह (एसओजी) को जांच सौंपी गई थी जिसमें राजस्थान पुलिस सेवा अधिकारी हीरा लाल सैनी के खिलाफ मामला दर्ज किया था और 9 सितंबर को उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। महिला कांस्टेबल को 12 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस के अनुसार, वीडियो क्लिप 10 जुलाई को अजमेर जिले के पुष्कर कस्बे के एक रिसॉर्ट में कांस्टेबल के मोबाइल फोन द्वारा बनाई गई थी। जब उन्हें गिरफ्तार किया गया था तो सैनी अजमेर में अंचल कार्यालय में सर्किल ऑफिसर के पद पर तैनात था, जबकि महिला कांस्टेबल जयपुर में तैनात थी। पुलिस ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो का स्वत: संज्ञान लिया और सैनी को गिरफ्तार किया, यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम के तहत SOG के साइबर क्राइम स्टेशन में मामला दर्ज किया गया था। सैनी और कांस्टेबल के अलावा, जयपुर और नागौर में दो अन्य आरपीएस अधिकारियों और दो पुलिस थानों के एसएचओ को भी ड्यूटी में लापरवाही के लिए निलंबित कर दिया गया।

बता दें, अजमेर के एक पुलिस अधिकारी और महिला कांस्टेबल का एक अश्लील वीडियो वायरल हुआ था। दरअसल ये मामला अजमेर जिले का है। पुलिस अधिकारी का नाम हीरालाल सैनी है और वो अजमेर जिले के ब्यावर में डीएसपी पद पर थे। इनके खिलाफ एक महीने पहले यह शिकायत की गई थी। जांच के बाद अब डीजीपी एमएल लाठर ने डीएसपी को सस्पेंड कर दिया था। साथ ही महिला कांस्टेबल को भी सस्पेंड कर दिया गया है, वो जयपुर कमिश्नरेट में पोस्टेड थी।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia