राजीव गांधी जयंती: एक ऐसा दौर जब देश सामाजिक-आर्थिक और संसाधन-आधारित कृषि विकास की उभरती हुई शक्ति बना

आज पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 77वीं जयंती है। वह भारत के आज तक के सबसे कम उम्र के प्रधान मंत्री हैं। राजीव गांधी के जन्मदिन को सद्भावना दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। इसका मकसद राष्ट्रीय एकीकरण और सभी समुदायों के बीच शांति को बढ़ावा देना है।

Getty Images
Getty Images
user

नवजीवन डेस्क

आज पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 77वीं जयंती है। वह आज तक भारत के सबसे कम उम्र के प्रधान मंत्री हैं, इस दिन को सद्भावना दिवस के रूप में भी जाना जाता है- इसका उद्देश्य राष्ट्रीय एकीकरण और विभिन्न समुदायों के बीच शांति को बढ़ावा देना है।

भारत ने आजतक जितनी भी प्रमुख सफलताओं को देखा है उनका श्रेय राजीव गांधी को ही जाता है। उन्होंने अर्थव्यवस्था के उदारीकरण के बीज बोए। राजीव गांधी की सरकार ने हीसत्ता के विकेंद्रीकरण और जमीनी स्तर से नेताओं को सशक्त बनाने के लिए पंचायती राज संस्थाओं को मजबूत किया।

एक सच्चे दूरदर्शी के रूप में राजीव गांधी ने भारत में आईटी (सूचना तकनीक) और दूरसंचार क्रांति का नेतृत्व किया। राजीव गांधी ने देश भर में उच्च शिक्षा कार्यक्रमों का विस्तार करने के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति का भी बीड़ा उठाया। राष्ट्र निर्माण में युवाओं की शक्ति का उपयोग करने के लिए उन्होंने मतदान की आयु 21 से घटाकर 18 वर्ष कर दी। राजीव गांधी के शासनकाल में भारत ने तेजी से तकनीकी प्रगति, सामाजिक-आर्थिक सुधार, संसाधन-आधारित कृषि विकास को भारत को एक उभरती हुई शक्ति बनाते हुए देखा।

राजीव गांधी भारत के सबसे युवा प्रधान मंत्री और एक ऐसे नेता हैं जिन्होंने करोड़ों भारतीयों के दिल और दिमाग पर एक अमिट छाप छोड़ी है। उन्होंने करोड़ों भारतीयों के बीच आशा और वादे को प्रेरित किया और भारत को एक सच्ची वैश्विक शक्ति के रूप में देखा और अपने युग के दौरान हासिल किए गए मील के पत्थर को उजागर किया।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia