ग्रेटर नोएडा में चल रहे किसानों के प्रदर्शन को समर्थन देने पहुंचे राकेश टिकैत, कहा- जमीन पर पहला हक किसानों का

राकेश टिकैत ट्रैक्टर पर सवार होकर किसानों के अनिश्चितकालीन धरने पर पहुंचे। इस दौरान किसानों के साथ महिलाएं भी भारी संख्या में शामिल रही। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण के अधिकारी किसानों की बात सुनने को तैयार नहीं है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ग्रेटर नोएडा पहुंचे हैं। यमुना एक्सप्रेसवे के नीचे जीरो पॉइंट पर किसानों का प्रदर्शन चल रहा है। जहां पर राकेश टिकैत अपनी पूरी फौज के साथ किसानों का समर्थन करने के लिए पहुंचे। मौके पर हजारों की संख्या में ग्रामीण महिलाएं और पुरुष मौजूद हैं। व्यवस्था को संभालने के लिए पुलिस टीम भी मौके पर तैनात है।

राकेश टिकैत ट्रैक्टर पर सवार होकर किसानों के अनिश्चितकालीन धरने पर पहुंचे। इस दौरान किसानों के साथ महिलाएं भी भारी संख्या में शामिल रही। उन्होंने कहा कि प्राधिकरण के अधिकारी किसानों की बात सुनने को तैयार नहीं है। प्राधिकरण अपनी मनमानी कर रहे हैं। जबकि यहां की जमीन पर किसानों का हक है, इसलिए प्रशासन और प्राधिकरण को किसानों की मांगों को पूरा करना चाहिए।

दरअसल, सैकड़ों की संख्या में किसान यमुना एक्सप्रेसवे के नीचे जीरो पॉइंट पर बैठे हैं। किसान काफी लंबे समय से धरना-प्रदर्शन दे रहे हैं। किसानों का प्रदर्शन 64.7 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा, किसानों के 10 प्रतिशत भूखंड, किसानों को आवासीय भूखंड और जेवर एयरपोर्ट से प्रभावित किसानों को घर के बराबर जगह देना आदि मुद्दों पर है।


21 अक्टूबर को इस धरने पर एक महापंचायत आयोजित की गई। इस महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत शामिल हुए। 9 अक्टूबर से भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले किसानों का धरना प्रदर्शन ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस के जीरो पॉइंट पर चल रहा है।

किसानों की समस्याओं को लेकर पिछले 13 दिनों से किसान धरने पर बैठे हुए हैं। यह लोग तीनों प्राधिकरण के खिलाफ जमकर हल्ला बोल रहे हैं। अधिकारियों के साथ कई बार वार्ता हुई। लेकिन, वार्ता विफल रही।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;