LJP सांसद प्रिंस राज पर रेप का केस दर्ज, भाई चिराग भी आए लपेटे में, सबूत छिपाने की साजिश रचने का आरोप

पीड़ित महिला ने मई में दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी और उसके बाद जुलाई में दिल्ली की एक अदालत का रुख किया था, जिसने अब पुलिस को एलजेपी सांसद प्रिंस राज और उनके चचेरे भाई चिराग पासवान के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया है।

फाइल फोटोः सोशल मीडिया
फाइल फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

बिहार के समस्तीपुर से लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के सांसद और पार्टी के बिहार अध्यक्ष प्रिंस राज पर दिल्ली पुलिस ने पार्टी की एक पदाधिकारी से बलात्कार करने और संबंधित सबूत नष्ट करने का मामला दर्ज किया है। शिकायतकर्ता ने अपनी प्राथमिकी में एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान पर सबूत छिपाने की साजिश रचने का भी आरोप लगाया है।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "9 सितंबर को दिल्ली की एक अदालत के निर्देश पर प्रिंस राज के खिलाफ कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज की गई थी।" सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता एलजेपी पार्टी कार्यालय में अक्सर आती-जाती रहती थी, जहां उसने सांसद राज से मिलना शुरू किया। अपनी शिकायत में उसने आरोप लगाया कि यह घटना 2020 में उसी पार्टी कार्यालय में हुई थी, जब उसे प्रिंस राज ने बहकाया था।


आरोपों के अनुसार, एलजेपी सांसद ने इस कृत्य का एक अश्लील वीडियो बनाया और पीड़िता को 'शारीरिक संबंध' के लिए ब्लैकमेल किया। पीड़िता ने दावा किया कि उसने एलजेपी प्रमुख चिराग पासवान को घटना से अवगत कराया, लेकिन उसी पर राज के खिलाफ मामला दर्ज नहीं करने के लिए दबाव बनाया गया। इसके बाद महिला ने मई में दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और जुलाई में दिल्ली की एक अदालत का रुख किया, जिसने अब पुलिस को एलजेपी सांसद प्रिंस राज और उनके चचेरे भाई चिराग पासवान के खिलाफ मामला दर्ज करने का निर्देश दिया है।

इससे पहले जून में, सांसद राज ने अपने खिलाफ लगाए गए सभी आरोपों का खंडन किया था और उन्हें 'स्पष्ट रूप से झूठ और मनगढ़ंत' बताया था। सांसद ने फरवरी में महिला के खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई थी जिसके बाद दिल्ली के संसद मार्ग पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। प्रिंस ने तब एक बयान में कहा था, "हमारे देश की महिलाओं की सुरक्षा के लिए सुविचारित कानूनों का दुरुपयोग करने के इन बार-बार और द्वेषपूर्ण प्रयासों से मुझे बेहद दुख हुआ है।"

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia