बिहार में LJP को लेकर रार जारी, 'असली एलजेपी' का होगा फैसला! चिराग ने की उपचुनाव में प्रत्याशी उतारने की घोषणा

माना जा रहा है कि अगर उपचुनाव में चिराग अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर देते हैं तो इसका लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) का पारस गुट इसका विरोध करेगा और यह मामला चुनाव आयोग के पास जा सकता है।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

बिहार में दो सीटों पर होने वाले विधानसभा उपचुनाव को लेकर अब तक तिथि की घोषणा नहीं हुई है लेकिन राजनीतिक दलों ने अपनी सियासी तैयारी शुरू कर दी है। एलजेपी के सांसद और नेता चिराग पासवान ने तो दोनों सीटों पर उम्मीदवार उतारने की घोषणा कर दी है। बिहार में ताारापुर और कुशेश्वर स्थान विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव होने हैं। पिछले चुनाव में तारापुर से मेवालाल चौधरी और कुशेश्वर स्थान से शशिभूषण हजारी ने जीत हासिल की थी, लेकिन दोनों विधायकों के असमय निधन के बाद यह सीट खाली हो गई, जिस पर अब उपचुनाव होने हैं। इन दोनों सीटों पर चिराग पासवान ने अपने उम्मीदवार उतारने की घोषणा कर दी है।

माना जा रहा है कि अगर उपचुनाव में चिराग अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर देते हैं तो इसका लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) का पारस गुट इसका विरोध करेगा और यह मामला चुनाव आयोग के पास जा सकता है। ऐसे में चुनाव आयोग को फैसला करना होगा कि असली एलजेपी कौन है।

गौरतलब है कि एलजेपी के संस्थापक पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद एलजेपी के पांच सांसदों ने बगावत कर दी थी, जिसका नेतृत्व सांसद और चिराग के चाचा पशुपति कुमार पारस कर रहे है, जबकि दूसरे गुट का नेतृत्व चिराग पासवान कर रहे हैं। दोनों गुट खुद को असली एलजेपी बता रहे हैं।

ऐसे में अगर यह मामला चुनाव आयोग के पास चला जाता है तब यह देखने वाली बात होगी कि आयोग एलजेपी का राष्ट्रीय अध्यक्ष किसे मानता है। कहा जा रहा है कि अगर चुनाव आयोग चिराग या पारस में किसी एक को उराष्ट्रीय अध्यक्ष मान लेता है तो दूसरे की परेशानी बढ़ जाएगी। फिलहाल एलजेपी के छह सांसद हैं, जिसमें चिराग और पारस दोनों शामिल है।

गौरतलब है कि एलजेपी का कोई भी विधायक और विधान पार्षद नहीं है। छह सांसदों में से पांच सांसदों का समर्थन पारस गुट को है, ऐसे में चिराग की परेशानी तब ज्यादा बढ जाएगी जब आयोग पारस को राष्ट्रीय अध्यक्ष मान ले।


गौरतलब है कि पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान ने चिराग पासवान को पार्टी की जिम्मेदारी दी थी, लेकिन उनके निधन के बाद ही परि²श्य बदल गया है।

इधर, एलजेपी (पारस गुट) के प्रवक्ता श्रवण अग्रवाल कहते हैं कि चिराग की यह घोषणा हास्यास्पद है और उनकी राजनीति में अपरिपक्वता का दर्शाती है। उन्हांेने दावा करते हुए कहा कि लोजपा के अध्यक्ष पशुपति कुमार पारस हैं, जिनका चुनाव राष्ट्रीय कार्यसमिति के सदस्यों द्वारा किया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia