लखीमपुर हिंसा का कारण मोदी के मंत्री अजय मिश्रा का बयान, सर्वे में 60.6 फीसदी से अधिक लोगों ने ठहराया जिम्मेदार

सर्वे में खुलासा हुआ कि 59.6 प्रतिशत लोगों का मानना है कि लखीमपुर की घटना उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी के लिए हानिकारक साबित होगी। सर्वे में शामिल लगभग 58.5 प्रतिशत का मानना है कि किसान अपने आंदोलन के मुद्दे पर सही हैं।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर 60.6 फीसदी से अधिक लोगों का मानना है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का 'बयान' इस घटना का कारण बना। आईएएनएस-सीवोटर-एबीपी सर्वेक्षण में पाया गया कि लगभग 60.6 प्रतिशत प्रतिभागियों को लगता है कि घटना के पीछे अजय मिश्रा का बयान है। करीब 39.4 फीसदी का मानना है कि उक्त घटना के पीछे मंत्री का बयान नहीं है।

सर्वे में सामने आया कि करीब 57.6 फीसदी लोगों का मानना है कि लखीमपुर की घटना के बाद किसानों और सरकार के बीच हुए समझौते के बावजूद उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए विपक्षी दल इसे राजनीतिक मुद्दा बना रहे हैं। वहीं सर्वे में शामिल लगभग 42.4 प्रतिशत प्रतिभागियों का मानना है कि विपक्ष इस घटना का राजनीतिकरण नहीं कर रहा है।


दो तिहाई से अधिक प्रतिभागियों का मानना है कि लखीमपुर जैसी घटनाओं ने उत्तर प्रदेश की छवि खराब की है। जबकि 69.6 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि लखीमपुर जैसी घटनाओं के कारण उत्तर प्रदेश सरकार की छवि खराब हो रही है। जबकि 30.4 फीसदी का मानना है कि उत्तर प्रदेश सरकार की छवि खराब नहीं हुई है।

सर्वेक्षण में आगे खुलासा हुआ कि 59.6 प्रतिशत उत्तरदाताओं का मानना है कि लखीमपुर की घटना उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी के लिए हानिकारक साबित होगी। वहीं 40.4 फीसदी का मानना है कि आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में इसका बीजेपी पर कोई असर नहीं होगा। सर्वे में शामिल लगभग 58.5 प्रतिशत का मानना है कि किसान अपने आंदोलन के मुद्दे पर सही हैं और केवल 41.5 प्रतिशत सोचते हैं कि किसान आंदोलन पर सरकार का रुख सही है।


लगभग 63.2 प्रतिशत प्रतिभागियों को लगता है कि पिछले कुछ दिनों में राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति के कारण उत्तर प्रदेश सरकार की छवि धूमिल हुई है। करीब 36.8 फीसदी का मानना है कि इससे राज्य सरकार की छवि पर कोई असर नहीं पड़ा है। सर्वेक्षण 5 से 8 अक्टूबर तक उत्तर प्रदेश के सभी 403 निर्वाचन क्षेत्रों में 2,805 प्रतिभागियों के बीच किया गया है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia