राजस्थान चुनाव में रिकॉर्ड 74.96 फीसदी मतदान, राजनीतिक दलों में संशय, लेकिन अपने पक्ष में उत्साह का दावा

शनिवार को राज्य विधानसभा की 200 सीटों में से 199 सीटों पर चुनाव के लिए मतदान हुआ। राज्य भर में मतदान काफी हद तक शांतिपूर्ण रहा। कुछ जगहों पर छिटपुट हिंसा और झ़ड़प की घटनाएं सामने आई, लेकिन उन पर फौरन काबू पा लिया गया।

राजस्थान चुनाव में रिकॉर्ड 74.96 फीसदी मतदान, राजनीतिक दलों का अपने पक्ष में उत्साह का दावा
राजस्थान चुनाव में रिकॉर्ड 74.96 फीसदी मतदान, राजनीतिक दलों का अपने पक्ष में उत्साह का दावा
user

नवजीवन डेस्क

राजस्थान में एक दिन पहले शनिवार को विधानसभा चुनाव के लिए हुई वोटिंग का अंतिम आंकड़ा आ गया है। चुनाव आयोग के अधिकारियों ने रविवार को मतदान के आंकड़ों की घोषणा करते हुए बताया कि राज्य में रिकॉर्ड 74.96 प्रतिशत से ज्यादा मतदान दर्ज किया गया है। इस आंकड़े में मतदान केंद्रों पर 74.13 प्रतिशत मतदान और डाक मतपत्र और घरेलू मतदान के माध्यम से डाले गए 0.83 प्रतिशत वोट शामिल हैं।

चुनाव अधिकारियों ने कहा, "सबसे ज्यादा 87.79 फीसदी मतदान पोकरण में दर्ज किया गया, जबकि दूसरा सबसे ज्यादा मतदान तिजारा में 85.15 फीसदी मतदान हुआ। सबसे कम मतदान प्रतिशत वाले दो स्थान मारवाड़ जंक्शन में 61.10 फीसदी और आहोर में 61.19 फीसदी मतदान हुआ।"


शनिवार को राज्य विधानसभा की 200 सीटों में से 199 सीटों पर चुनाव के लिए मतदान हुआ। राज्य भर में मतदान काफी हद तक शांतिपूर्ण रहा। कुछ जगहों पर छिटपुट हिंसा और झ़ड़प की घटनाएं सामने आई, लेकिन उन पर फौरन काबू पा लिया गया। श्री करणपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए शनिवार को मतदान नहीं हो सका, क्योंकि कांग्रेस के उम्मीदवार गुरमीत सिंह कूनर (75) की मृत्यु के कारण चुनाव प्रक्रिया रोक दी गई थी।

राजस्थान में रिकॉर्ड 74.96 प्रतिशत मतदान ने विभिन्न राजनीतिक दलों में संशय की स्थिति पैदा कर दी है। सत्तारूढ़ कांग्रेस के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तो बढ़े मतदान प्रतिशत को अपने पक्ष में बताते हुए दोबारा सरकार बनाने का दावा किया है। लेकिन खासकर विपक्षी दल इस ट्रेंड को समझ नहीं पा रहे हैं। हालांकि, बीजेपी और अन्य दलों के नेता सामने से तो मतदाताओं के उत्साह के अपने पक्ष में होने का दावा कर रहे हैं। लेकिन पर्दे के पीछे संशय की बात कर रहे हैं। अब 3 दिसंबर को मतगणना के साथ संशय के सारे बादल छंट जाएंगे।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;