कश्मीर के कई इलाकों में फिर से लगा प्रतिबंध, श्रीनगर का लाल चौक भी सुरक्षाबलों ने किया सील

शुक्रवार को एक बार फिर कश्मीर घाटी के कई इलाकों में फिर से प्रतिबंध लागू कर दिए गए। खबरों के अनुसार राजधानी श्रीनगर के कई इलाकों के साथ ही घाटी के गांदरबल, अनंतनाग, अवंतीपोरा, सोपोर और हंदवाड़ा टाउन में भी कई स्थानों पर कर्फ्यू लगाया गया है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

जम्मू और कश्मीर में जारी प्रतिबंधों से राहत की तमाम संभावनाओं को उस समय बड़ा झटका लग गया है, जब शुक्रवार को एक बार फिर कश्मीर घाटी के कई इलाकों में फिर से प्रतिबंध लागू कर दिए गए। खबरों के अनुसार राजधानी श्रीनगर के कई इलाकों के साथ ही घाटी के गांदरबल, अनंतनाग, अवंतीपोरा, सोपोर और हंदवाड़ा टाउन में भी कई स्थानों पर कर्फ्यू लगाया गया है।

कानून व्यवस्था बनाए रखने के नाम पर लगाए गए ताजा प्रतिबंधों के तहत श्रीनगर के नौहट्‌टा, रैनावाड़ी, सफाकदल, खानयार और डाउनटाउन समेत पांच पुलिस थाना इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है। श्रीनगर के लाल चौक को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। लाल चौक आने-जाने के सभी रास्तों को बैरिकेड और कंटीले तारों से सील कर दिया गया है।

अधिकारियों का कहना है कि जुमे की नमाज के लिए मस्जिदों और प्रार्थना स्थलों पर आने वाली भारी संख्या में लोगों की भीड़ को देखते हुए कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए एहतेयातन यह कदम उठाया गया है। नए प्रतिबंध सिर्फ शुक्रवार तक के लिए हैं या कब तक जारी रहेंगे इस बारे में अधिकारियों ने कुछ नहीं बताया है।

बता दें कि मोदी सरकार के 5 अगस्त को जम्मू और कश्मीर को विभाजित कर केंद्रशासित प्रदेश बनाने और अनुच्छेद 370 समाप्त करने के ऐलान के एक दिन पहले से ही जम्मू और कश्मीर में कड़े प्रतिबंध लगा दिए गए थे। इस दौरान जम्मू में तो काफी ढील रही, लेकिन पूरी कश्मीर घाटी सख्त पहरे में रही। अभी भी कई इलाकों में सख्त पाबंदी जारी है। बीते दिनों में हालात सामान्य रहने पर कुछ दिनों से चरणबद्ध तरीके से घाटी के कुछ इलाकों से प्रतिबंध हटाए जा रहे थे। कुछ स्थानों पर संचार सेवाएं बहाल कर दी गई थीं। लेकिन एक बार फिर से प्रतिबंध लगने से स्थिति फिर से तनावपूर्ण होती दिख रही है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;