RRB-NTPC रिजल्ट: छात्रों के विरोध के आगे बदले रेल मंत्री के सुर, कहा- कानून हाथ में न लें, जल्द मसले को सुलझाएंगे

रेल मंत्री ने कहा है कि मसले के समाधान के लिए एक जांच समिति गठित कर दी गई है। छात्र अगले तीन ह़फ्तों में अपनी मांगों और शिकायतों को समिति के पास भेज सकते हैं। समिति 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट दे देगी और तब तक अगले स्तर की परीक्षा निलंबित रहेगी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

रेलवे की भर्ती परीक्षा आरआरबी-एनटीपीसी के परिणाम से असंतुष्ट प्रदर्शनकारी छात्रों के लगातार विरोध प्रदर्शन के बाद अब केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शांति बनाए रखने की अपील की है। साथ ही उन्होंने समस्या को जल्द सुलझाने की बात कही है। रेलमंत्री वैष्णव ने कहा कि छात्रों की ज्यादातर शिकायतें और मांगें सरकार तक पहुंच गई हैं। उन्होंने कहा कि सभी पक्षों का ध्यान रखते हुए सरकार जल्द से जल्द इस मामले को सुलझाने की कोशिश करेगी।

हालांकि. छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए उन्होंने दावा किया कि रेलवे भर्ती बोर्ड की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों (आरआरबी-एनटीपीसी) परीक्षा 2021 में धांधली की शिकायत कहीं से नहीं आई है और अच्छे से परीक्षा का संचालन किया गया है। वहीं सीमा से कम छात्रों को अगले स्तर की परीक्षा के लिए चुनने को लेकर उन्होंने कहा कि रेलवे ने परीक्षा के लिए निकाली गई अधिसूचना के अनुसार 20 गुना छात्रों को ही पास किया है।


उन्होंने बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए अपने तर्क के समर्थन में आरआरबी-एनटीपीसी के हर पद के अनुसार आंकड़े सामने रखे। अश्विनी वैष्णव ने छात्रों से रेल संपत्ति को नुकसान न पहुंचाने की भी अपील की। उन्होंने कहा है कि रेलवे हम सबकी संपत्ति है। परीक्षा देने वाले हमारे ही भाई बहन हैं, हम जल्द ही इस मसले को सुलझाने में कामयाब रहेंगे।

रेल मंत्री ने कहा कि छात्र अगले तीन ह़फ्तों में अपनी मांगों और शिकायतों को जांच समिति के पास भेज सकते हैं। उन्होंने दावा किया कि मसले को चार मार्च के पहले भी सुलझाया जा सकता है। इसके लिए समिति गठित कर दी गई है। जांच समिति 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट देगी और अगले स्तर की परीक्षा को तब तक के लिए निलंबित किया गया है। हालांकि छात्रों की मांग है कि इस मसले को सुलझाने में इतना व़क्त लेना सही नहीं है।


दरअसल रेलवे भर्ती बोर्ड की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों की परीक्षा आरआरबी-एनटीपीसी-2021 के परिणाम 14-15 जनवरी को जारी किये गए थे। इन परीक्षाओं में 1 करोड़ 40 लाख उम्मीदवार शामिल हुए थे और नतीजे आने के बाद से ही छात्रों के बीच असंतोष छाया हुआ है। इसके विरोध में छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं। यह विरोध बिहार, उत्तर प्रदेश और देश के कई अन्य हिस्सों में छात्रों द्वारा किया जा रहा है।

मंगलवार को प्रदर्शनकारी छात्रों ने कई स्थानों पर रेल पटरियों पर धरना दिया, कई घंटे तक रेलों को बाधित किया। वहीं बुधवार को बिहार के गया और आरा में छात्रों ने ट्रेन की बोगियों में आग लगा दी। हालांकि इस बीच रेल मंत्रालय ने मंगलवार को एक बयान जारी कर प्रदर्शनकारी उम्मीदवारों को रेलवे की नौकरी पाने से जीवन भर के लिए बैन करने की चेतावनी भी दी थी। लेकिन अब रेल मंत्रालय ने अपने सुर बदल दिए हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia