RRB-NTPC रिजल्टः आंदोलनरत छात्रों के समर्थन में उतरे राहुल और प्रियंका गांधी, कहा- गिरफ्तार छात्रों को रिहा किया जाए

प्रियंका गांधी ने मांग की है कि छात्रों के हॉस्टलों में घुसकर तोड़-फोड़ और सर्च की कार्रवाई पर तत्काल रोक लगाई जाए और गिरफ्तार किये गए छात्रों को रिहा किया जाए। विरोध प्रदर्शन करने के चलते उनको नौकरी से प्रतिबंधित करने वाला आदेश फौरन वापस लिया जाए।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी बुधवार को रेलवे भर्ती बोर्ड की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों की आरआरबी-एनटीपीसी परीक्षा 2021 के परिणाम के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों के समर्थन में सामने आए औक उन्होंने गिरफ्तार छात्रों की रिहाई की मांग की।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में मंगलवार को हुए विरोध प्रदर्शन में शामिल छात्रों को स्थानीय पुलिस के द्वारा उनके हॉस्टल में जाकर पीटने का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने इसी के विरोध में ट्वीट कर कहा है कि रेलवे एनटीपीसी की ग्रुप डी परीक्षा से जुड़े युवाओं पर दमन की जितनी निंदा की जाए, कम है। सरकार तुरंत दोनों परीक्षाओं से जुड़े युवाओं से बात करके उनकी समस्याओं का हल निकाले।

प्रियंका गांधी ने मांग की है कि छात्रों के हॉस्टलों में घुसकर तोड़-फोड़ और सर्च की कार्रवाई पर रोक लगाई जाए और गिरफ्तार किये गए छात्रों को रिहा किया जाए। विरोध प्रदर्शन करने के चलते उनको नौकरी से प्रतिबंधित करने वाला आदेश वापस लिया जाए। प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं से मेरी अपील है कि सत्याग्रह में बहुत ताकत होती है। शांतिपूर्ण ढंग से सत्याग्रह के मार्ग पर चलते रहिए।

प्रियंका गांधी ने कहा कि युवाओं को रोजगार की बात कहने का पूरा हक है और मैं इस लड़ाई में पूरी तरह से उनके साथ हूं। इसके साथ ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी बुधवार को कहा कि अधिकारों के लिए आवाज उठाने को हर नौजवान स्वतंत्र है। जो भूल गए हैं, उन्हें याद दिला दो कि भारत लोकतंत्र है, गणतंत्र था, गणतंत्र है!


वहीं इस मामले पर समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव भी छात्रों के समर्थन में आए हैं। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद में अपने रोजगार के लिए हक की आवाज बुलंद करने वाले बेगुनाह छात्रों पर पुलिस द्वारा हिंसक प्रहार शर्मनाक और घोर निंदनीय है। बीजेपी सरकार में छात्रों के साथ जो दुर्व्यवहार हुआ है, वो बीजेपी के ऐतिहासिक पतन का कारण बनेगा। सपा संघर्षशील छात्रों के साथ है।

दरअसल रेलवे भर्ती बोर्ड की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों की परीक्षा 2021 परिणाम 14-15 जनवरी को जारी किये गए थे। इन परीक्षाओं में 1 करोड़ 40 लाख उम्मीदवार शामिल हुए थे और नतीजे आने के बाद से ही छात्रों के बीच असंतोष छाया हुआ है। इसके विरोध में छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं। यह विरोध बिहार, उत्तर प्रदेश और देश के कई अन्य हिस्सों में छात्रों द्वारा किया जा रहा है। मंगलवार को प्रदर्शनकारी छात्रों ने कई स्थानों पर रेल पटरियों पर धरना दिया, कई घंटे तक रेलों को बाधित किया। बुधवार को बिहार के गया और आरा में छात्रों ने ट्रेन की बोगियों में आग भी लगा दी।


फिलहाल इस पूरे मामले को सुलझाने के लिए रेल मंत्रालय ने एक समिति गठित की है जो परीक्षा में पास हुए और फेल किए गए छात्रों की बातों को सुनेगी और इसकी रिपोर्ट तीन सप्ताह में रेल मंत्रालय को सौंपेगी। उसके बाद रेल मंत्रालय आगे का निर्णय लेगा। छात्रों के विरोध के मद्देनजर फिलहाल रेलवे की आगामी परीक्षाओं पर रेल मंत्रालय ने रोक लगा दी है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia