आरएसएस ने देश के प्रमुख संस्थानों और स्वतंत्र प्रेस को नष्ट किया, राहुल गांधी ने तमिलनाडु में बोला हमला

राहुल गांधी ने कहा कि आरएसएस ने पूंजीपतियों के साथ मिलकर देश के संतुलन को नष्ट किया है। उन्होंने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि सवाल ये नहीं है कि प्रधानमंत्री उपयोगी हैं या बेकार हैं, बल्कि सवाल यह है कि वह किसके लिए उपयोगी हैं।

फोटोः @INCIndia
फोटोः @INCIndia
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि पिछले छह वर्षो में इस संगठन ने देश के प्रमुख संस्थानों और स्वतंत्र प्रेस को सुनियोजित तरीके से नष्ट कर दिया है। उन्होंने शनिवार को तमिलनाडु के तूतीकोरिन स्थित वीओ चिदंबरम कॉलेज हॉल में अधिवक्ताओं की एक बैठक को संबोधित करते हुए बीजेपी के मातृ-संगठन पर यह आरोप लगाया।

कांग्रेस नेता ने लोकसभा, विधानसभा और पंचायत जैसे निर्वाचित संस्थानों और न्यायपालिका जैसी संस्थाओं के साथ ही आजाद प्रेस को एक देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण करार देते हुए कहा कि इन छह वर्षो में भारत में लोकतंत्र मर चुका है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को एक दिन में नहीं, बल्कि व्यवस्थित तरीके से मारा गया है। आरएसएस देश के लोकतंत्र को नष्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने कहा कि आरएसएस ने पूंजीपतियों के साथ मिलकर देश के संतुलन को नष्ट कर दिया है। उन्होंने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा, "सवाल यह नहीं है कि प्रधानमंत्री उपयोगी हैं या बेकार हैं, बल्कि वह किसके लिए उपयोगी हैं, सवाल यह है। यह तो हम दो हमारे दो जैसा है।"

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के मुद्दे पर कांग्रेस नेता ने कहा कि यह भेदभावपूर्ण है। उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि संसद द्वारा पारित तीनों कृषि कानून देश के गरीब किसानों के खिलाफ हैं। राहुल गांधी ने यह भी कहा कि लोगों की शक्ति ही एकमात्र ऐसी शक्ति है, जो लोकतंत्र और लोकतांत्रिक संस्थानों की रक्षा कर सकती है।

बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी तमिलनाडु के तीन दिवसीय दौरे पर हैं, जहां पुडुचेरी और केरल के साथ छह अप्रैल को विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। उन्होंने तमिलनाडु की यात्रा से पहले पुडुचेरी और केरल का भी दौरा किया था।

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 27 Feb 2021, 8:18 PM
लोकप्रिय