रेप के दोषी कुलदीप सेंगर को बचाने में जुटी योगी सरकार? बीजेपी पर लगे गंभीर आरोप

समाजवादी पार्टी का कहना है कि योगी की सरकार खुद और बीजेपी को बेदाग बताने का सिर्फ ढोंग करती है। हकीकत अगर देखनी है तो आमजन सिर्फ एक नजर केवल दुष्कर्म के मुजरिम उन्हीं के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के कुकर्मो पर डाल लें।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दुष्कर्म के मामले में दोषी करार दिए जा चुके कुलदीप सिंह सेंगर को बीजेपी बचाने में जुटी हुई है? यह गंभीर आरोप विपक्ष की ओर से लगाए जा रहे हैं। समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर गंभीर आरोल गया है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आई.पी. सिंह ने कहा, “योगी की सरकार खुद और बीजेपी को बेदाग बताने का सिर्फ ढोंग करती है। हकीकत अगर देखनी है तो आमजन सिर्फ एक नजर केवल दुष्कर्म के मुजरिम उन्हीं के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के कुकर्मो पर डाल लें। इसमें कोई विरोधी पार्टी भला क्या करेगी? योगी और बीजेपी अगर पाक-साफ हैं तो फिर, मुजरिम करार दिए जाने के बाद भी कुलदीप की विधानसभा सीट खाली घोषित करने में वे क्यों शरमा रहे हैं? यही है भाजपा की करनी और कथनी में फर्क।”

समाजवादी पार्टी में बेबाक बोलने के लिए पहचाने जाने वाले राष्ट्रीय प्रवक्ता ने आगे कहा, “इसमें कोई झूठ नहीं है कि इस वक्त बीजेपी यूपी और केंद्र में राज कर रही है। मगर तस्वीर का दूसरा पहलू यह भी है कि बीजेपी कहीं कोई जनहित का काम भी नहीं कर रही है। इसके लिए यूपी सरकार से बड़ा नमूना भला क्या होगा? जो बलात्कारी विधायक को खुलेआम शरण दे रही है। बिना उस जनता से डरे हुए जिसने राज्य में बीजेपी को भूलवश सत्ता सौंप दी थी।”

राज्य सरकार की इन्हीं तमाम ऊट-पटांग नीतियों से खफा आई.पी. सिंह ने दो टूक कहा, “अगर यूपी में योगी और उनकी सरकार का हाल यही रहा तो फिर आने वाले समय में राज्य की बागडोर संभालने के लिए समाजवादी पार्टी को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।”

उन्होंने एक बयान में आगे कहा, “राज्य की सरकार जो कुछ कर रही है उस पर नजर रखने के लिए राज्यपाल हैं। सूबे में मौजूद सरकार के इन बिगड़े हालातों में राज्यपाल को खुद ही संज्ञान लेना चाहिए। राज्यपाल के विशेषाधिकार के तहत किसी से कुछ नहीं पूछना है। वे चाहें तो पलक झपकते कुलदीप सेंगर की विधानसभा सीट को खाली घोषित करा सकती हैं। मगर उनकी भी एक अदद चुप्पी सौ-सौ सवाल खड़ी करती है।”

(आईएएनएस के इनपुट के साथ)

लोकप्रिय