महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच संजय राउत का बड़ा बयान, बताया- आगे की लड़ाई कैसे लड़ेगी शिवसेना, बागियों की खैर नहीं!

संजय राउत ने कहा कि संख्या बल कागज में ज्यादा हो सकती है, लेकिन अब यह लड़ाई कानूनी लड़ाई होगी। हमारे जिन 12 लोगों ने बगावत शुरू की है उनके खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू की है, जिसके लिए हमारे लोगों ने सभापति से मुलाकात की है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र में सियासी संकट जारी है। इस बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने यह साफ कर दिया है कि महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट की आगे की लड़ाई कैसे लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि एकनाथ शिंदे गुट जो हमें चुनौती दे रहा है, उसे यह महसूस करना चाहिए कि शिवसेना के कार्यकर्ता अभी सड़कों पर नहीं उतरे हैं। इस तरह की लड़ाई या तो कानून के जरिए लड़ी जाती है या सड़कों पर। जरूरत पड़ी तो हमारे कार्यकर्ता सड़कों पर उतरेंगे।

उन्होंने कहा कि संख्या बल कागज में ज्यादा हो सकती है, लेकिन अब यह लड़ाई कानूनी लड़ाई होगी। हमारे जिन 12 लोगों ने बगावत शुरू की है उनके खिलाफ कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू की है, जिसके लिए हमारे लोगों ने सभापति से मुलाकात की है। राउत ने कहा कि (एकनाथ शिंदे गुट के) 12 विधायकों को अयोग्य ठहराने की प्रक्रिया चल रही है, उनकी संख्या केवल कागजों पर है। शिवसेना एक बड़ा सागर है, ऐसी लहरें आती-जाती रहती हैं।


शिवसेना ने साफ कर दिया है कि अब महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट से जुड़ी लड़ाई सड़क पर उतरकर और कानूनी तरीके से लड़ी जाएगी। राजनीतिक संकट के बीच मुंबई में शिवसेना ने आज दोपहर 12 बजे शिवसेना भवन में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में पार्टी के जिलाध्यक्षों की बैठक बुलाई है।

वहीं, संजय राउत ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार को निशाना बनाए जाने पर बीजेपी को आड़े हाथों लिया। राउत ने ट्वीट कर कहा, "बीजेपी के एक केंद्रीय मंत्री ने कहा है कि अगर महाविकास अघाड़ी सरकार को बचाने के प्रयास किया गया तो शरद पवार को घर नहीं जाने दिया जाएगा। महाविकास अघाड़ी सरकार रहे या न रहे लेकिन शरद पवार के लिए ऐसी भाषा का उपयोग स्वीकार्य नहीं है।"


राउत ने कहा कि एक केंद्रीय मंत्री द्वारा शरद पवार जी को धमकियां दी जा रही हैं। क्या ऐसी धमकियों को मोदी जी और अमित शाह जी का समर्थन है?

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia