वैज्ञानिकों ने खोजा ब्रह्मांड के लापता पदार्थों का पता, आकाशगंगाओं के शोध में मिलेगी बड़ी सफलता

आकाशगंगाओं के निर्माण को समझने में एक बड़ी समस्या यह आती है कि आकाशगंगाओं के सामान्य पदार्थ को बनाने वाले लगभग 80 प्रतिशत बेरियोन गायब हैं। बेरियोन ऐसे कण होते हैं जिनमें प्रोटॉन और न्यूट्रॉन होते हैं। अब वैज्ञानिकोंं ने इनका पता लगा लिया है।

फोटोः IANS
फोटोः IANS
user

नवजीवन डेस्क

वैज्ञानिकों के एक दल ने पहली बार एक गांगेय हवा का मानचित्रण किया है। ऐसी खोज से यह पता लगाने में मदद मिल सकती है कि ब्रह्मांड के कुछ लापता पदार्थ कहां स्थित हैं और जो एक गैलेक्सी के चारों ओर एक नेबुला के गठन का निरीक्षण करने में मदद कर सकते हैं। तारकीय विस्फोटों द्वारा बनाई गई गांगेय हवाओं की बदौलत आकाशगंगाएं अपने बाहरी वातावरण से पदार्थ प्राप्त कर सकती हैं और उसका आदान-प्रदान कर सकती हैं।

यूरोपीय दक्षिणी वेधशाला में बहुत बड़े टेलीस्कोप से एमयूएसई उपकरण के माध्यम से गांगेय हवा को देखा गया। एमएनआरएएस जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में इस अनोखे अवलोकन का विवरण दिया गया है। एमयूएसई का मतलब मल्टी यूनिट स्पेक्ट्रोस्कोपिक एक्सप्लोरर है और यह एक 3डी स्पेक्ट्रोग्राफ है जिसे दूर के ब्रह्मांड का पता लगाने के लिए डिजाइन किया गया है।

आकाशगंगाओं के निर्माण को समझने में एक बड़ी समस्या यह है कि आकाशगंगाओं के सामान्य पदार्थ को बनाने वाले लगभग 80 प्रतिशत बेरियोन गायब हैं। बेरियोन ऐसे कण होते हैं जिनमें प्रोटॉन और न्यूट्रॉन होते हैं। मॉडल शोधों के अनुसार, तारकीय विस्फोटों द्वारा बनाई गई गांगेय हवाओं द्वारा उन्हें आकाशगंगाओं से अंतर-गैलेक्टिक अंतरिक्ष में निष्कासित कर दिया गया।


सीएनआरएस, फ्रांसीसी नेशनल सेंटर फॉर साइंटिफिक रिसर्च और क्लाउड बर्नार्ड यूनिवर्सिटी ल्यों के शोधकर्ताओं के नेतृत्व में अंतर्राष्ट्रीय टीम ने एमयूएसई उपकरण का इस्तेमाल एक युवा आकाशगंगा के गठन और एक नेबुला के बीच गांगेय पवन ड्राइविंग एक्सचेंजों का एक विस्तृत नक्शा तैयार करने के लिए किया।

टीम ने क्वासर की निकटता के कारण आकाशगंगा गैल 1 का निरीक्षण करना चुना, जो वैज्ञानिकों के लिए 'लाइटहाउस' के रूप में कार्य करता है। आकाशगंगा और क्वासर की सही स्थिति के साथ-साथ गांगेय हवाओं के कारण गैस विनिमय की खोज ने एक अनूठा नक्शा बनाना संभव बना दिया। इसने गठन में एक नेबुला के पहले अवलोकन को भी सक्षम किया जो ब्रह्मांड के लापता बेरियोन गैल 1 आकाशगंगा के साथ मैग्नीशियम उत्सर्जित और अवशोषित कर रहा है।

'लापता' बेरियोन को डार्क मैटर से अलग किया जाना चाहिए, जिसमें एक अज्ञात प्रकृति के गैर-बैरोनिक पदार्थ होते हैं। टीम ने समझाया कि इस प्रकार के सामान्य पदार्थ नेबुला को निकट ब्रह्मांड में जाना जाएगा, लेकिन उनका अस्तित्व केवल युवा आकाशगंगाओं के गठन में माना जाता था।

वैज्ञानिकों ने इस प्रकार ब्रह्मांड के कुछ लापता बेरियोन की खोज की है, जिससे पुष्टि हुई कि 80-90 प्रतिशत सामान्य पदार्थ आकाशगंगाओं के बाहर स्थित हैं। यह एक ऐसा शोध या अवलोकन है जो आकाशगंगाओं के विकास के लिए मॉडल का विस्तार करने में मदद करेगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia