देशभर में 40 डिग्री का टॉर्चर! चिलचिलाती धूप, लू के थपेड़ों और तपती गर्मी ने किया जीना मुहाल

देश के कई राज्यों में लू और गर्मी की तपिश बढ़ती जा रही है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज, 15 मई को न्यूनतम तापमान 25 डिग्री तो अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

देश के ज्यादातर हिस्सों में चिचिलाती धूप और गर्मी ने लोगों का जीना दूभर कर दिया है। ज्यादातर राज्यों में पारा 40 डिग्री के पार पहुंच गया है। दिल्ली से लखनऊ और राजस्थान से महाराष्ट्र तक गर्मी ने रंग दिखाना शुरू कर दिया है।  दिल्ली में आज यानी 15 मई को अधिकतम तापमान 40 डिग्री के पार पहुंच सकता है। वहीं, न्यूनतम तापमान 24 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है।

देश के कई राज्यों में लू और गर्मी की तपिश बढ़ती जा रही है। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में आज, 15 मई को न्यूनतम तापमान 25 डिग्री तो अधिकतम तापमान 40 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। यहां हफ्ते के आखिर तक अधिकतम तापमान 42 डिग्री सेल्सियस पहुंच सकता है। बिहार और झारखंड में भी पारा 40 डिग्री के पार पहुंच गया है।


राजस्थान के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश से रविवार को थोड़ी राहत जरूर मिली। मौसम विभाग के अनुसार, राज्य में आंधी-बारिश जैसी स्थिति आगामी तीन-चार दिन जारी रहने वाली है। इससे तापमान में दो से 3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट होगी। लू से राहत मिलने की संभावना है।

राजस्थान के ज्यादातर हिस्सों में पारा 40 डिग्री के पार पहुंच गया है। पिछले 24 में राजस्थान में मौसम काफी गर्म रहा है। मौसम विभाग के अनुसार, 44.4 डिग्री सेल्सियस अधिकतम तापमान के साथ कोटा राज्य का सबसे गर्म स्थान रहा। राज्य में कई स्थानों पर आंधी चलने से दिन के तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट आई। मौसम विभाग के मुताबिक, जयपुर, सीकर और वनस्थली (टोंक) में हल्की बारिश दर्ज की गई। आगामी 24 घंटों के दौरान ऐसा ही मौसम रहने की संभावना है।


महाराष्ट्र के 36 में से 26 जिले पिछले दो-तीन दिनों में 40 डिग्री सेल्सियस और उससे अधिक औसत तापमान के साथ लू के हालात से जूझ रहे हैं। मौसम विभाग ने पूरे तटीय कोंकण, विदर्भ, मराठवाड़ा, पश्चिमी और उत्तरी महाराष्ट्र समेत विभिन्न हिस्सों में हीटवेव की स्थिति घोषित की है। तटीय कोंकण के लिए मौजूदा मौसम में यह चौथा 'हीट-वेव' अलर्ट है, और मई के लिए पहला, जबकि अन्य क्षेत्र पहले से ही अप्रैल के मध्य से सामान्य से अधिक तापमान से जूझ रहे हैं।

यह सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण जोखिमों से भरा है और संबंधित अधिकारियों के साथ-साथ लोगों को लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए तत्काल निवारक उपाय करने की सलाह दी जाती है। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के पूर्व सचिव माधवन नायर राजीवन का कहना है कि नवीनतम डेटा स्पष्ट रूप से इंगित करता है कि पूरे भारत में हीटवेव की तीव्रता और आवृत्ति में वृद्धि हुई है, और आने वाले वर्षो में इसके और बढ़ने का अनुमान है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;