अरशद वारसी समेत 45 लोगों को SEBI ने स्टॉक मार्केट से किया बैन, शेयरों के भाव में हेरफेर का आरोप, एक्टर ने दी सफाई

अरशद वारसी ने सफाई में कहा कि कृपया खबरों में पढ़ी हर बात पर विश्वास न करें। मारिया और मेरी स्टॉक के बारे में जानकारी शून्य है। हमने कुछ लोगों से सलाह ली और शारदा में निवेश किया और कई अन्य लोगों की तरह, हमारी सारी मेहनत की कमाई खो दी।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

सिक्योरिटी एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (सेबी) ने बॉलीवुड अभिनेता अरशद वारसी और उनकी पत्नी मारिया गोरेट्टी समेत 45 लोगों और कंपनियों को स्टॉक मार्केट से बैन कर दिया है। इन पर यूट्यूब पर भ्रामक वीडियो डालकर दो कंपनियों- शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट लिमिटेड और साधना ब्रॉडकास्ट लिमिटेड के शेयरों के भाव को मैनिपुलेट करने का आरोप है। इन आरोपों पर सेबी ने जांच के बाद वारसी समेत 45 लोगों और कंपनियों को शेयर मार्केट से बैन करने का फैसला लिया।

साधना ब्रॉडकास्ट लिमिटेड और शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट लिमिटेड के शेयरों में उछाल को लेकर लगे हेरफेर के आरोपों की जांच में सेबी ने पाया कि कुछ यूट्यूब चैनल पर कंपनी की स्थिति के बारे में गुमराह करने वाले विडियो जारी कर दोनों कंपनियों के शेयरों में गड़बड़ी की गई थी। इन वीडियो में निवेशकों को भारी लाभ के लिए साधना और शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट लिमिटेड के शेयर खरीदने की सलाह दी गई। वारसी और उनके परिवार के लोगों पर भी इस हेरफेर में शामिल होने के आरोप लगे थे।

सेबी द्वारा कार्रवाई की खबरें सामने आने के बाद अरशद वारसी ने ट्विटर पर बयान जारी कर सफाई दी है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, “कृपया खबरों में पढ़ी हर बात पर विश्वास न करें। मारिया और मेरी स्टॉक के बारे में जानकारी शून्य है। हमने कुछ लोगों से सलाह ली और शारदा में निवेश किया और कई अन्य लोगों की तरह, हमारी सारी मेहनत की कमाई खो दी।” हालांकि इस बयान में अरशद ने शेयरों के भाव में हेरफेर के आरोपों और सेबी द्वारा स्टॉक मार्केट से बैन किये जाने पर कुछ भी नहीं कहा।

सेबी की जांच में पता चला कि साधना ब्रॉडकास्ट लिमिटेड के कुछ प्रमोटर्स, की मैनेजमेंट पर्सनल और नॉन-प्रमोटर शेयरहोल्डर्स ने अपनी होल्डिंग का एक बड़ा हिस्सा शेयरों की बढ़ी हुई कीमत पर बेच दिया और काफी मुनाफा कमाया। इनके पास कंपनी में 1% से ज्यादा शेयरहोल्डिंग थी। लाभ कमाने वालों में अरशद वारसी और उनका परिवार भी शामिल था। अरशद वारसी ने जहां 29.43 लाख रुपये, उनकी पत्नी मारिया गोरेट्टी ने 37.56 लाख और इकबाल हुसैन वारसी ने 9.34 लाख रुपये का लाभ कमाया।


सेबी ने दोनों कंपनियों के शेयर के भाव में हेराफेरी की शिकायतें मिलने पर जांच शुरू की थी। इसमें आरोप लगाया गया था कि निवेशकों को लुभाने के लिए दोनों कंपनियों के बारे में कुछ यूट्यूब चैनल पर भ्रामक वीडियो अपलोड किए गए। सेबी ने जांच में पाया कि अप्रैल से जुलाई 2022 के बीच दोनों कंपनियों के शेयरों की कीमत और वॉल्यूम में अचानक वृद्धि हुई। साधना ब्रॉडकास्ट को लेकर जुलाई 2022 में झूठे और भ्रामक वीडियो दो यूट्यूब चैनल एडवाइजर और मनीवाइज पर अपलोड किए गए। वहीं शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट लिमिटेड के लिए मई 2022 में दो चैनल मिडकैप कॉल और प्रॉफिट यात्रा पर वीडियो अपलोड किए गए थे।

आरोपों के अनुसार 20 मई 2022 को साधना ब्रॉडकास्ट के शेयर का भाव जहां 5.70 रुपए था, वहीं इन भ्रामक वीडियो के बाद 12 अगस्त 2022 को शेयर का भाव बढ़कर 33.20 रुपए हो गया, लेकिन 15 फरवरी को भाव वापस 5.50 रुपए पर आ गया। इसी तरह शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट का शेयर 25 मार्च 2022 को 7.35 रुपए था, लेकिन भ्रामक वीडियो के बाद 13 जून 2022 को भाव बढ़कर 53.30 रुपए हो गया औऱ फिर 2 मार्च 2023 को वापस 6.80 रुपए पर आ गया।

इन वीडियो के कारण, साधना ब्रॉडकास्ट में छोटे शेयरधारकों की संख्या 2,167 से 55,343 तक पहुंच गई। इन लोगों ने बढ़ी हुई कीमत पर शेयर खरीदे। वहीं वीडियों की वजह से शार्पलाइन ब्रॉडकास्ट के छोटे शेयरधारकों की संख्या 517 से बढ़कर 20,009 पहुंच गई थी। एक वीडियो में तो यहां तक दावा कर दिया गया था कि साधना ब्रॉडकास्ट लिमिटेड को अडामी ग्रुप ने खरीद लिया है। इन चैनल्स को अब बंद कर दिया गया है।

खास बात यह है कि दोनों कंपनियों का डायरेक्टर एक ही है। संजीव कुमार झा नाम का शख्स दोनों कंपनियों का डायरेक्टर है। इसके अलावा दोनों कंपनियों के स्टेटरी ऑडिटर भी एक ही हैं। दोनों कंपनियों का सेक्रेटेरियल ऑडिटर भी एक ही संस्था वी कुमार एंड एसोसिएट्स है। दोनों कंपनियों का रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट भी एक स्काईलाइन फाइनेंशियल है।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;