कांग्रेस की वरिष्ठ नेता इंदिरा हृदयेश का निधन, पीएम मोदी और राहुल गांधी ने जताया शोक

उत्तराखंड विधानसभा में विपक्ष की नेता और कांग्रेस की कद्दावर नेता इंदिरा हृदयेश का रविवार को दिल का दौरा पड़ने से दिल्ली में निधन हो गया है। वह कांग्रेस की कई सरकारों का हिस्सा रही हैं और यूपी विधान परिषद की सदस्य भी रही हैं।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तराखंड विधानसभा में विपक्ष की नेता और कांग्रेस की कद्दावर नेता इंदिरा हृदयेश का रविवार को दिल का दौरा पड़ने से दिल्ली में निधन हो गया है। वह कांग्रेस की कई सरकारों का हिस्सा रही हैं और यूपी विधान परिषद की सदस्य भी रही हैं। वह एक बैठक में भाग लेने के लिए दिल्ली आई हुई थीं। उन्होंने उत्तराखंड सदन में अंतिम सांस लीं।

राहुल गांधी ने उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है, "उनके निधन का दुखद समाचार मिला है। वह राज्य की एक बहुत ही महत्वपूर्ण नेता थीं। उनका सामाजिक और राजनीतिक योगदान प्रेरणादायक रहा है। उनके प्रियजनों के प्रति संवेदना।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वरिष्ठ कांग्रेस नेता के निधर पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा। डॉ. इंदिरा हृदयेश जी कई सामुदायिक सेवा प्रयासों में सबसे आगे थीं। उन्होंने एक प्रभावी विधायक के रूप में अपनी पहचान बनाई और उनके पास समृद्ध प्रशासनिक अनुभव भी था। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना है।


उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता हरीश रावत ने कहा कि इंदिरा हृदयेश जी का जाना उत्तराखंड, कांग्रेस और राजनीतिक जीवन के लिए एक बहुत बड़ी और अपूरणीय क्षति है। वो एक बहुत विदुषी महिला थीं और संसदीय विधाओं की मास्टर थीं। वो ऐसे समय में गई हैं जब कांग्रेस और उत्तराखंड को उनकी सबसे ज़्यादा जरूरत है।

वहीं मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने उन्हें अपनी बड़ी बहन कहते हुए शोक जाहिर किया है। ट्विटर के सीएम रावत ने लिखा कि उत्तराखण्ड राज्य की वरिष्ठ नेत्री, पूर्व मंत्री एवं वर्तमान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहीं, मेरी बड़ी बहन जैसी आदरणीया श्रीमती इंदिरा हृदयेश जी के निधन का दुखद समाचार मिला। उन्होंने कहा कि मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए भगवान के श्री चरणों में प्रार्थना करता हूं।

राज्य की राजनीति में हमेशा ही उनका एक अहम योगदान रहा है। इंदिरा हृदयेश अपने राजनीति करियर में शुरू से एक ऐसी नेता के तौर पर जानी जाती रही हैं जिन्हें अपनी पार्टी के साथ साथ विपक्षी पार्टी से भी खूब सम्मान मिलता था।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 13 Jun 2021, 3:32 PM