WFI अध्यक्ष पर लगे गंभीर आरोपों की हो जांच, केस दर्ज कर कुश्ती संघ को तुरंत किया जाए बर्खास्त: दीपेंद्र हुड्डा

भारतीय कुश्ती महासंघ और WFI के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन शोषण के आरोप पर कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि यह छोटी बात नहीं है। यह दुर्भाग्य की बात है कि सरकार की जानकारी में लाने के बाद भी इस पर कार्रवाई नहीं हुई।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

अंतरराष्ट्रीय पहलवान विनेश फोगाट के आरोपों पर देश की सियासत गरमा गई है। विपक्षी दलों ने सत्तासीन बीजेपी को आड़े हाथाें लिया है। कांग्रेस ने बीजेपी सराकार की चुप्पी पर सवाल खड़े किए हैं। भारतीय कुश्ती महासंघ और WFI के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन शोषण के आरोप पर कांग्रेस नेता दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि यह छोटी बात नहीं है। यह आरोप किसी एक व्यक्ति द्वारा नहीं लगाए गए। यह दुर्भाग्य की बात है कि सरकार की जानकारी में लाने के बाद भी इस पर कार्रवाई नहीं हुई।

उन्होंने आगे कहा कि हमारी मांग है कि कुश्ती संघ को तुरंत बर्खास्त किया जाए और कुश्ती संघ के अधिकारियों पर सुसंगत धाराओं में मामला दर्ज किया जाए और कानूनी कार्रवाई की जाए।

उन्होंने आगे कहा कि खिलाड़ी अलग-अलग प्रदेशों से आते हैं। इसलिए इसमें सर्वोच्च न्यायलय की निगरानी में समय निर्धारित CBI की जांच हो। सरकार का 'बेटी बचाओ, बटी पढ़ाओ' का नारा था जो आज खोखला दिखाई दे रहा है। भारत सरकार हमारी देश की बेटियों के लिए तुरंत कार्रवाई करे।

दूसरी ओर दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल जंतर मंतर पर धरने पर बैठी कुश्ती खिलाड़ियों से मिलने पहुंची। वहां पहुंचने के बाद उन्होंने खिलाड़ियों को आश्वासन दिया कि उन्हें न्याय जरूर मिलेगा।

स्वाति मालीवाल ने इतनी भीषण सर्दी में कुश्ती खिलाड़ियों के धरने पर बैठने पर गहरा दुख भी व्यक्त किया। आपको बता दें कि दिल्ली महिला आयोग ने कुश्ती महासंघ डब्ल्यू एफ आई के अध्यक्ष पर लग रहे यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोपों के बाद उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। इसी के तहत दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल जंतर मंतर पर धरने पर बैठी कुश्ती खिलाड़ियों से मिलने पहुंचीं। इस दौरान स्वाति मालीवाल ने कहा भारत को ऊंचाइयों पर ले जाने वाली महिलाओं को न्याय मांगने के लिए जंतर-मंतर पर इकट्ठा होना शर्मनाक है।




मालीवाल ने कहा कि हमने केंद्रीय खेल मंत्रालय और दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया है। इस पूरे मामले में तत्काल प्रभाव से न्याय मिलना चाहिए।

स्वाति मालीवाल ने एक ट्वीट के माध्यम से बताया कि मैं जंतर मंतर जाकर देश की चैंपियन कुश्ती खिलाड़ियों से मिली। उन्होंने हमारे तिरंगे की शान बढ़ाई है। बड़े दुख की बात है कि उन्हें आज इस कड़ाके की सर्दी में सड़क पर बैठना पड़ रहा है। हम मजबूती से उनके साथ खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाएंगे।

स्वाति मालीवाल ने आगे कहा, रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष के अलावा उन कोचों के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए जिनके नाम मामले में सामने आए हैं।

गौरतलब है कि ओलंपियन पहलवान विनेश फोगाट ने भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पर गंभीर आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा था कि उन्होंने महिला पहलवानों का यौन उत्पीड़न किया। विनेश ने कहा कि वह बृजभूषण शरण सिंह द्वारा मानसिक उत्पीड़न की पीड़ित थीं। विनेश ने कहा कि उन्होंने आत्महत्या पर विचार किया था।

उन्होंने कहा था, "डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष और राष्ट्रीय शिविर के कुछ कोचों ने महिला पहलवानों का यौन शोषण किया है। कोई भी इसकी जिम्मेदारी नहीं लेता है। वे पहलवानों को राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबंधित करने की बात करते हैं। डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष ने मुझे खोटा सिक्का (बेकार) कहा। मैं आत्महत्या करना चाहती थीं।"

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


;