बहुत कुछ बदल गया है ‘फायर’ से लेकर ‘मेड इन हैवन’ तक : शबाना आज़मी

शबाना आज़मी इस बात से संतुष्ट हैं कि समाज में हो रहे बदलावओं रिश्तों की स्वीकार्यता को आज के दौर में बढ़ावा दिया जा रहा है। उनका कहना है कि ‘फायर’ से लेकर ‘मेड इन हैवन’ तक बहुत कुछ बदला है।

फोटो : सोशल मीडिया
फोटो : सोशल मीडिया

आईएएनएस

मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी की 1996 में आई फिल्म 'फायर' में जब समलैंगिक रिश्ते को दिखाया गया था, तब से लेकर 2019 में आज जब वेब सीरीज 'मेड इन हैवन' में एलजीबीटी समुदाय से संबंधित विषय को पेश किया गया है, अभिनेत्री ने इस पूरी अवधि में आए बदलाव की सराहना की है। जब दीपा मेहता की फिल्म 'फायर' रिलीज हुई थी तो भारतीय समाज के रूढ़िवादी धड़े ने इसका काफी विरोध किया था।

इस संबंध में शबाना ने कहा, "देखिए, वह फिल्म 1996 में रिलीज हुई थी। तब से लेकर अगर मैं 'मेड इन हैवन' के आने तक के सफर को देखूं जो कि एक नया उदाहरण है..मैं कहना चाहती हूं कि अब इस बारे में खुलापन आया है।"

उन्होंने कहा, "मेरा हमेशा से मानना रहा है कि फिल्में हमारे समाज का प्रतिबिंब होती हैं और अच्छी फिल्में समाज पर असर डाल सकती हैं। इसमें एक संबंध है..लेकिन एक स्वीकार्यता भी है और इसे सराहा जाना चाहिए।"

जहां फिल्म 'फायर' में शबाना ने राधा नाम की एक गृहिणी का किरदार निभाया था जो अपनी देवरानी के प्यार में पड़ जाती है, वहीं 'सिग्नेचर मूव' में उन्होंने एक ऐसी लड़की की मां का किरदार निभाया था जो समलैंगिक है।

लोकप्रिय