5 राज्यों में चुनावी कार्यक्रम पर कोरोना का साया, 15 जनवरी तक रैली, रोड शो पर रोक, वर्चुअल प्रचार करेंगे दल

चुनाव आयोग ने कहा कि सभी पार्टियों और उम्मीदवारों को अंडरटेकिंग देनी होगी कि वे कोविड गाइड लाइन का पालन सख्ती से करेंगे। आयोग ने कहा कि नतीजे आने के बाद कोई विजय जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। विजयी उम्मीदवार केवल दो लोगों के साथ प्रमाण पत्र लेने जाएंगे।

फोटोः ANI
फोटोः ANI
user

नवजीवन डेस्क

चुनाव आयोग ने आज उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। पांच राज्यों में चुनाव 7 चरणों में होगा और वोटों की गिनती एख साथ 10 मार्च को होगी। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्र और चुनाव आयुक्त राजीव कुमार और अनूप चंद्र पांडे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में चुनाव तारीखों के ऐलान के साथ ही कोरोना के ध्यान में रखते हुए चुनाव के लिए सख्त दिशानिर्देश जारी किए हैं।

चुनाव आयोग ने तारीखों के ऐलान के साथ कहा कि आज से 15 जनवरी तक राजनीतिक दलों के रोड शो, रैली, साइकिल रैली, पद यात्राओं समेत सभी सभाओं पर पूर्ण रुप से रोक रहेगी। 15 जनवरी के बाद पर इस पर विचार किया जाएगा। आयोग ने कहा कि राजनीतिक दल चुनाव प्रचार डिजिटल, वर्चुअल माध्यम और मोबाइल के जरिये करें। फिजिकल प्रचार के पारंपरिक साधनों का इस्तेमाल कम से कम करें।


साथ ही आय़ोग ने कहा कि राजनीतिक पार्टियां रात आठ बजे से सुबह आठ बजे तक कोई प्रचार, जन संपर्क अभियान नहीं कर सकेंगी। पार्टियों को तय जगहों पर ही सभा करने की अनुमति होगी। सभी पार्टियों और उम्मीदवारों को अंडरटेकिंग देनी होगी कि वे कोविड गाइड लाइन का पालन सख्ती से करेंगे। आयोग ने कहा कि नतीजे आने के बाद कोई विजय जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। विजयी उम्मीदवार दो लोगों के साथ प्रमाण पत्र लेने जाएंगे।

इसके साथ ही चुनाव आय़ोग ने ऐलान किया कि कोरोना को देखते हुए मतदान के समय को एक घंटा बढ़ा दिया गया है। चुनाव के समय की घोषणा अधिसूचना जारी करने के वक्त की जाएगी। साथ ही आयोग ने कहा कि सरकारी कर्मचारियों के अलावा 80 साल से ज्यादा उम्र के नागरिकों, दिव्यांगों और कोविड प्रभावित लोगों के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था होगी। कोविड प्रभावित या कोविड संदिग्ध के घर वीडियो टीम के साथ आयोग की टीम विशेष वैन से जाएगी वोट डलवा कर आएगी। इन्हें बैलेट पेपर से वोट डालने का अधिकार मिलेगा।


मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्र ने बताया कि इस बार 5 राज्यों की 690 विधानसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। इसमें कुल 18.34 करोड़ मतदाता हैं, इनमें सर्विस मतदाता भी शामिल हैं। इनमें से 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। कुल 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। इनमें से 11.4 लाख लड़कियां पहली बार वोटर बनीं हैं। सभी बूथ ग्राउंड फ्लोर पर होंगे, ताकि लोगों को सुविधा हो। बूथ पर सैनिटाइजर, मास्क उपलब्ध होगा. इस बार 1250 मतदाताओं पर एक बूथ बनाया गया है। 1620 बूथ को महिला पोलिंगकर्मी मैनेज करेंगी। 900 आब्जर्बर चुनाव पर नजर रखेंगे। संवेदनशील बूथों पर पूरे दिन वीडीओग्राफी होगी। एक लाख से ज्यादा बूथों पर लाइव वेबकास्ट होगा।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia