शाहीन बाग: प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने वाले वार्ताकारों ने कोर्ट में सौंपी रिपोर्ट, अगली सुनवाई 26 फरवरी को

दिल्ली के शाहीन बाग में सड़क खाली कराने के लिए नियुक्त किए गए वार्ताकारों ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इस दौरान कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकारों ने सुप्रीम कोर्ट को सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंपी है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों से बातचीत के बाद वार्ताकारों ने अपनी सीलबंद रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में सौंप दी है। सीलबंद लिफाफे में वार्ताकरों ने अपनी रिपोर्ट दी है। सोमवार को इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मामले में 26 फरवरी को तारीख दी है। अब बुधवार को मामले की अगली सुनवाई होगी।

गौरतलब है कि शाहीन बाग में प्रदर्शन के बाद दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली सड़क बंद है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी गई है। इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने संजय हेगड़े, साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह को वार्ताकारों को नियुक्त किया। तीनों वार्ताकारों शाहीन बाग जाकर प्रदर्शनकारियों से बात की। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट दी।

वहीं रविवार को ही वार्ताकारों की मदद कर रहे पूर्व सूचना आयुक्त वजाहत हबीबुल्लाह ने शाहीन बाग में सड़क अवरोध पर एक हलफनामा दायर किया था। हलफनामे में वजाहत हबीबुल्लाह ने रोड बंद के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा था कि सीएए के खिलाफ शाहीन बाग में विरोध प्रदर्शन शांतिपूर्ण चल रहा है। पुलिस ने शाहीन बाग के आसपास 5 रास्तों को बंद कर रखा है जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है।

बता दें कि सीएए-एनआरसी के विरोध में 15 दिसंबर को जामिया नगर में हुए हिंसक प्रदर्शनों के बाद से दिल्ली-नोएडा को जोड़ने वाले सड़क पर शाहीन बाग इलाके में विरोध प्रदर्शन चल रहा है।

लोकप्रिय
next