महाराष्ट्र के इतिहास ने दिल्ली की सत्ता के आगे झुकना नहीं सिखाया, 27 को ईडी दफ्तर जाऊंगा: शरद पवार

शरद पवार ने कहा कि हम शिवाजी के अनुयायी हैं और दिल्ली के तख्त के आगे नहीं झुकेंगे। पवार ने जांच से बचने के आरोपों पर जवाब देते हुए कहा कि वह खुद प्रवर्तन निदेशालय के दफ्तर जाएंगे और जांच में सहोयग करेंगे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक घोटाले में नाम आने के बाद शरद पवार ने कहा, “मेरा नाम ईसीआईआर में दर्ज किया गया है। ऐसे में मैं इसकी जांच में पूरा सहयोग करूंगा। मैं खुद 27 सिंतबर को प्रवर्तन निदेशाल के सामने पेश भी होऊंगा।

शरद पवार ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ईडी की कार्रवाई के समय पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा, “ईडी ने 21 अक्टूबर को होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले ही यह कार्रवाई की है। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है। इसके बावजूद मैं 27 सितंबर को ईडी दफ्तर जाऊंगा और महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक घोटाले के सिलसिले में जो भी जानकारी उनके पास होगी, एजेंसी को देंगे।”


उन्होंने यह भी कहा कि अगले महीने चुनाव को देखते हुए ज्यादातर समय अलग-अलग जिले में रहेंगे, लेकिन इसके बावजूद जांच में सहयोग करेंगे और उपस्थित रहेंगे। पवार ने आगे कहा कि ऐसी स्थिति में जांच करने वाली एजेंसी को मेरी उपस्थिति चाहिए हो तो उन्हें यह गलतफहमी न रहे कि मैं उपलब्ध नहीं हूं। इस दौरान पवार ने कहा कि शिवाजी के आदर्शों पर चलता हूं कि उन्होंने हमें बचपन से ही सिखाया है कि दिल्ली की ताकत के आगे नहीं झुकना है।

बता दें कि ईडी ने मंगलवार को शरद पवार, उनके भतीजे अजित पवार और 75 अन्य के खिलाफ महाराष्ट्र स्टेट कोऑपरेटिव बैंक (एमएसीब) घोटाले में मामला दर्ज किया। ईडी ने एनसीपी के बड़े नेताओं के खिलाफ यह कदम बॉम्बे हाईकोर्ट द्वारा पिछले महीने दिए गए फैसले के बाद उठाया है, जिसमें मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को कथित घोटाले में शरद पवार, अजित पवार और 75 अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को कहा गया था।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia