राज्यपाल से मिले बीजेपी नेता, शिवसेना ने साधा निशाना, कहा- महाराष्ट्र पर राष्ट्रपति शासन थोपना चाहते हैं ये

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि बीजेपी साफ-साफ यह बताए कि वह सरकार नहीं बना सकती है। बीजेपी यह बोले की वह विपक्ष में बैठेगी। राज्य में बीजेपी राष्ट्रपति शासन लगाने की परिस्थिति पैदा कर रही है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

मुंबई में बीजेपी प्रतिनिधिमंडल द्वारा राज्यपाल से मिलने के बाद शिवसेना ने बीजेपी पर बड़ा हमला बोला। मीडिया से बात करते हुए शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा, “महाराष्ट्र में इस वक्त बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है, लेकिन वह सरकार बनाने का दावा पेश नहीं कर रही है। इसका मतलब साफ यह है कि वह बहुमत नहीं जुटा पा रही है। बीजेपी महाराष्ट्र पर जबरदस्ती राष्ट्रपति शासन थोपना चाहती है। यह राज्य की जनता का सरासर अपमान है।”

राउत ने आगे कहा, “बीजेपी साफ-साफ यह बताए कि वह सरकार नहीं बना सकती है। बीजेपी यह बोले की वह विपक्ष में बैठेगी। बीजेपी राष्ट्रपति शासन लगाने की परिस्थिति पैदा कर रही है, यह महाराष्ट्र के खिलाफ है। बीजेपी का फैसला संविधान के खिलाफ है। अगर बीजेपी राज्यपाल से मिलकर आई है तो उसे राज्यपाल के सामने बहुमत का आकंड़ा भी पेश करना चाहिए था।”

बता दें कि गुरूवार को मुंबई में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी के विधायकों के साथ बैठक की. बैठक के बाद उद्धव ठाकरे ने एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने दो टूक कहा कि जो पहले तय हुआ था, हमें वह चाहिए। उन्होंने कहा कि बीजेपी नेताओं से मेरी कोई भी सीधी बात नहीं हुई है, हमारे पास सभी विकल्प हैं, लेकिन हम नहीं चाहते हैं कि उन पर हम विचार करें। उद्धव ठाकरे के इस बयान से साफ हो गया है कि सीएम पद पर फिलहाल वह कोई समझौता नहीं करने जा रही है।

बैठक के बाद शिवसेना विधायक गुलाबराव पाटिल ने मीडिया को बताया कि अगले दो दिनों तक शिवसेना के सभी विधायक होटल रंग शारदा में रहेंगे। पाटिल ने कहा, “हम अगले दो दिनों के लिए होटल रंगशारदा में रहेंगे। उद्धव साहब हमसे जो भी करने को कहते हैं, हम करेंगे।”

बता दें कि महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को विधान सभा चुनाव हुए थे और 24 अक्टूबर को नतीजे आ गए थे। तब से अब तक महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर लगातार खींचतान जारी है। 8 नवम्बर यानी शुक्रवार को महाराष्ट्र विधान सभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। ऐसे में महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए एक दिन ही शेष बचा हुआ है। किसी भी पार्टी की सरकार न बनने की स्थिति में राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया जाएगा। केंद्र सरकार पहले ही महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का ऐलान कर चुकी है।

लोकप्रिय