उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी को झटका! एसपी छोड़ 6 पार्षदों ने थामा कांग्रेस का हाथ

कांग्रेस विधायक सुहैल अहमद ने संवाददाताओं से कहा कि कानपुर में समाजवादी पार्टी की स्थिति के बारे में सभी जानते हैं। इसके विधायक इरफान सोलंकी ने पिछले चार वर्षों में अपने निर्वाचन क्षेत्र के लिए कुछ नहीं किया है, और पिछले दो दशकों में सीसामऊ में कोई विकास कार्य नहीं किया गया है।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

समाजवादी पार्टी के छह पार्षदों ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। इन पार्षदों ने उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की उपस्थिति में कांग्रेस का हाथ थामा। एसपी छोड़ने वालों में कानपुर नगर निगम हाउस में समाजवादी पार्टी के पार्षदों के नेता सुहैल अहमद, शिब्बू अंसारी, शशि, राकेश साहू, आबिद अली और महेंद्र प्रताप सिंह शामिल हैं।

कांग्रेस विधायक सुहैल अंसारी इस मौके पर मौजूद थे, जब सुहैल अहमद और अन्य ने लखनऊ में कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ली। ये सभी पार्षद सीसामऊ विधानसभा सीट से ताल्लुक रखते हैं। एसपी विधायक इरफान सोलंकी ने 2017 के चुनाव में भाजपा उम्मीदवार सुरेश अवस्थी को हराकर इस सीट पर जीत हासिल की थी। आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को बड़ी चुनौती देने की तैयारी कर रही सपा के लिए पार्षदों का पार्टी छोड़ना एक बड़ा झटका है।


सुहैल अहमद ने संवाददाताओं से कहा कि कानपुर में समाजवादी पार्टी की स्थिति के बारे में सभी जानते हैं। इसके विधायक इरफान सोलंकी ने पिछले चार वर्षों में अपने निर्वाचन क्षेत्र के लिए कुछ नहीं किया है, और पिछले दो दशकों में सीसामऊ में कोई विकास कार्य नहीं किया गया है। इसके अलावा सोलंकी का व्यक्तिगत व्यवहार भी संदिग्ध है।

इरफान सोलंकी के साथ सुहैल के मतभेद नए नहीं हैं। वह 2017 के चुनावों में बागी हो गए थे और यहां तक कि सीसामऊ विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन भी दाखिल किया था। लेकिन धर्मगुरुओं और रणनीतिकारों के दखल के बाद उन्होंने अपना नामांकन वापस ले लिया था। सुहैल अहमद सीसामऊ निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस के टिकट की उम्मीद कर रहे हैं।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia