सामाजिक कार्यकर्ता ज्यां द्रेज को झारखंड पुलिस ने किया गिरफ्तार, बीजेपी सरकार के खिलाफ किए थे कई खुलासे

लोगों को ‘भोजन का अधिकार’ दिलाने के लिए काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता ज्यां द्रेज, उनके साथी विवेक और एक सहयोगी को झारखंड के गढ़वा में गिरफ्तार कर लिया गया है। ये लोग अपने अभियान के तहत गढ़वा जिला के बिशुनपुरा में जनसभा करने गये थे।

फोटो: सोशल मीडिया
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

झारखंड के गढ़वा में सामाजिक कार्यकर्ता और अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने ज्यां द्रेज के 2 साथियों को भी गिरफ्तार किया है। जिस दौरान ज्यां द्रेज को गिरफ्तार किया गया उस दौरान वे अपने साथियों के साथ रांची के गढ़वा के बिशुनपुर बाजार में कार्यक्रम कर रहे थे। बता दें कि ज्यां द्रेज छत्तीसगढ़ के बस्तर इलाके में काम करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता बेला भाटिया के पति हैं।

इस गिरफ्तारी को लेकर स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा, “ज्यां द्रेज एक संत-अर्थशास्त्री हैं, जो झुग्गी-झोपड़ियों में रहते थे, किसी भी अर्थशास्त्री की तुलना में उन्होंने गरीबों के लिए ज्यादा काम किया। उन्होंने सभी शक्ति और महिमा को छोड़ दिया, भारतीय नागरिकता हासिल की, वे शांतिवादी हैं। उन्हें गिरफ्तार करने से ज्यादा शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता।”

गौरतलब है कि ज्यां द्रेज ने कुछ महीने पहले झारखंड में जिन लोगों का आधार से पेंशन, राशन कार्ड, जॉब कार्ड लिंक नहीं हुआ है, वैसे लाभार्थियों को लाभ से वंचित किए जाने का खुलासा किया था। झारखंड में जॉब कार्ड, राशन कार्ड या पेंशनर को फर्जी बताया गया है, और इस मद में बची हुई राशि को सरकार आधार इनेबल सेविंग कहकर खुद की वाहवाही लूट रही है। इतना ही नहीं झारखंड में आधार कार्ड से लिंक नहीं होने के कारण हजारों जॉब कार्ड भी कैंसिल कर दिए गए हैं।

ज्यां द्रेज ने खुलासा किया था कि 2017 में मोदी सरकार ने कहा कि आधार की वजह से 100 करोड़ रुपये बचाए, लेकिन आरटीआई से प्राप्त सूचना से जानकारी मिली की झारखंड सरकार जिस तरीके से फर्जी राशन कार्ड बताकर राशन कार्ड को कैंसिल किए, उसमें 12 फीसदी ही गलत थे। इसके कारण जरूरतमंदों को उनके राशन के अधिकार से वंचित हो जाना पड़ा था।

दूसरी ओर ज्यां द्रेज की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने सफाई दी है। पुलिस का कहना है कि आचार संहिता लागू है और बिना प्रशासनिक अनुमति के कार्यक्रम किया जा रहा था। इसलिए गिरफ्तारी की गई है। मामले की जानकारी एसडीओ समेत अधिकारी को दे दी गयी है।

लोकप्रिय