जवानों को ‘शहीद’ का दर्जा नहीं, लेकिन अनिल अंबानी को करोड़ों का तोहफा, ये है मोदी का नया भारत: राहुल गांधी 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि पुलवामा में शहीद हुए 40 जवानों को ‘शहीद’ का दर्जा नहीं दिया गया है, लेकिन अनिल अंबानी को 30 हजार करोड़ रुपये तोहफे में दे दिए गए हैं।मोदी के नये भारत में आपका स्वागत है।

फोटो: सोशल मीडिया 
फोटो: सोशल मीडिया

नवजीवन डेस्क

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए ट्वीट कर कहा, “हमारे बहादुर जवान शहीद हो गए, उनके परिजन संघर्ष कर रहे हैं। 40 जवानों ने शहादत दी, लेकिन उन्हें शहीद का दर्जा देने से इनकार कर दिया गया। वहीं इस आदमी (अनिल अंबानी) ने कुछ नहीं किया, लेकिन उसे 30 हजार करोड़ रुपये का गिफ्ट दे दिया गया। मोदी के नये भारत में आपका स्वागत है।”

गौरतलब है कि सरकार की नजर में पुलवामा आतंकी हमले में जान गंवाने वाले जवान ’शहीद’ नहीं हैं। क्योंकि सीआरपीएफ समेत तमाम अर्धसैनिक बलों- सीआरपीएफ, बीएसएफ, सीआईएसएफ, एसएसबी आदि के जवान भले देश की सीमा के अंदर देश के दुश्मनों से हमारी हिफाजत में हर वक्त तत्पर रहते हैं लेकिन उन्हें और उनके परिवार के लोगों को सामान्य सुविधाएं भी नहीं मिलती हैं।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा हमलाः शहादत पर सियासत करने वाले क्या जानते हैं इनको नहीं मिलता शहीद तक का दर्जा

वहीं पुलवामा हमले के बाद देशभर में कश्मीरियों के लिए विरोध देखने को मिल रहा है। देश के कई अलग-अलग राज्यों कश्मीरी लोगों के खिलाफ स्थानीय लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। बीते दिनों हमले के बाद कश्मीरियों को लेकर मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने विवादित बयान दिया था। जिसे लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम मेघालय के राज्यपाल और बीजेपी पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया। उन्होंने कहा, ‘‘शायद 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' (सरदार पटेल की प्रतिमा) मेघालय के राज्यपाल और उन अन्य लोगों पर नजर बनाये हुए होगी, जिन्हें लगता है कि भारत में कश्मीरियों की कोई जगह नहीं है।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘यह विडंबना है। हम ये तो कहते हैं कि कश्मीर भारत का हिस्सा है, लेकिन हम ये नहीं चाहते कि कश्मीरी भारतीयों का हिस्सा हों।’’ बता दें कि तथागत रॉय ने पुलवमा हमले के बाद सोशल मीडिया पर लिखा था, “लोगों को कश्मीर का बायकॉट कर देना चाहिए, वहां के लोगों का सामान नहीं खरीदना चाहिए और ना ही लोग कश्मीर की यात्रा करना चाहिए।”

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के एक काफिले पर आत्मघाती हमला हुआ था, जिसमें इस अर्धसैनिक बल के 49 जवान शहीद हो गए थे और कई घायल हुए थे

लोकप्रिय