सोनिया गांधी ने कोराना को लेकर कांग्रेस के मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र, तत्काल प्रभावी कदम उठाने के लिए कहा

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पंजाब, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और पुडुचेरी के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कोरोना वायरस से निपटने के लिए तत्काल प्रभावी कदम उठाने के लिए कहा है। इसके लिए उन्होंने जागरुकता अभियान भी शुरू करने के लिए कहा है।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए तमाम जरूरी कदम उठाने, आवश्यक साधनों की पर्याप्त आपूर्ति करने और रोकथाम के लिए जागरूकता पैदा करने के जैसे कदम उठाने की सलाह दी है।

भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पुद्दुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा है कि वे अपने राज्य में कोरोना वायरस से निपटने को लेकर प्रभावी कदम उठाएं और पूरी तैयारी रखें। पत्र में उन्होंने कहा कि, ‘हम वैश्विक स्तर पर स्वास्थ्य आपातकाल जैसी स्थिति से गुजर रहे हैं। दुनिया भर में इसके लिए उठाए जा रहे कदमों के साथ-साथ हमें घरेलू स्तर पर भी प्रभावी कदम उठाने होंगे।’

सोनिया गांधी ने कोराना को लेकर कांग्रेस के मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र, तत्काल प्रभावी कदम उठाने के लिए कहा

सोनिया गांधी ने पत्र में कहा कि कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए प्राथमिकता के आधार पर जरूरी उपाय किए जाएं और सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं की क्षमता में भी इजाफा किया जाए। उन्होंने कहा कि रोकथाम से जुडे मास्क आदि साधनों और उपकरणों का उत्पादन बढाया जाए ताकि आवश्यक वस्तुओं की कमी नहीं हो। साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य सुरक्षा से जुड़े उपकरणों की जमाखोरी और कालाबाजारी को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने और सघन चिकित्सा सेवा सुविधाओं को भी बढ़ाने के लिए कहा।


कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश में कोविड-19 के मामलों की संख्या निरंतर बढ रही है। इसे देखते हुए इस वायरस से निपटने के लिए राज्य सरकार को हर समय तैयार रहने की जरूरत है। इसके लिए अलग से चिकित्सा केंद्र बनाने और जांच सुविधा केंद्र बढ़ाने की दिशा में कदम उठाए जाने चाहिए। साथ ही लोगों की जांच और संक्रमित मरीजों को अलग रखे जाने की पूरी व्यवस्था की जानी चाहिए।

साथ ही उन्होंने कहा कि इससे बचाव के लिए लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। राज्य सरकारें बड़े पैमाने पर लोगों के एक साथ जमा नहीं होने के लिए निर्देश जारी करें। साथ ही स्थानीय भाषा में हेल्पलाइन शुरू की जानी चाहिए। उन्होंने उम्मीद जताई कि सामूहिक कदम उठाने से देश में इस वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाया जा सकेगा।

Google न्यूज़नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 06 Mar 2020, 10:07 PM
;