यूपी चुनाव से पहले BJP में भगदड़ का दौर जारी, मौर्य के बाद वन मंत्री दारा सिंह चौहान ने दिया इस्तीफा

योगी सरकार से इस्तीफा देने के बाद दारा सिंह चौहान ने कहा कि जिन पिछड़े, उपेक्षित, दलित लोगों की मदद और आशिर्वाद से बीजेपी की सरकार बनी, 5 साल तक उन्हीं लोगों को इंसाफ, न्याय नहीं मिला। इससे आहत होकर आज मैंने अपना इस्तीफा दे दिया है। जल्द कोई फैसला लूंगा।

फोटोः सोशल मीडिया
फोटोः सोशल मीडिया
user

नवजीवन डेस्क

उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से 7 मार्च के बीच सात चरणों में होने वाले चुनाव से महज कुछ दिन पहले सत्तारूढ़ बीजेपी में भगदड़ का सिलसिला जारी है। योगी सरकार के कद्दावर मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफा देने के 24 घंटे के अंदर ही बीजेपी को दूसरा बड़ा झटका लगा है। योगी सरकार में वन मंत्री रहे दारा सिंह चौहान ने भी आज मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है। दारा सिंह चौहान मऊ जिले की मधुबन सीट से विधायक हैं। उन्होंने राज्यपाल को भेजी चिट्ठी में योगी सरकार पर दलितों, पिछड़ों और युवाओं की अनदेखी का आरोप लगाया है।

दारा सिंह चौहान ने कहा, " मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के मंत्रिमंडल में वन पर्यावरण और जन्तु उद्यान मंत्री के रूप में मैंने पूरे मनोयोग से अपने विभाग की बेहतरी के लिए कार्य किया, किन्तु सरकार की पिछड़ों, वंचितों, दलितों, किसानों और बेरोजगार नौजवानों की घोर उपेक्षात्मक रवैये के साथ-साथ पिछड़ों और दलितों के आरक्षण के साथ जो खिलवाड़ हो रहा है, उससे आहत होकर मैं उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल से इस्तीफा देता हूं।"


योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा देने के बाद दारा सिंह चौहान ने कहा, "5 साल तक जिस पिछड़े, उपेक्षित, दलित लोगों की मदद और आशिर्वाद से बीजेपी की सरकार बनी उन्हीं लोगों को इंसाफ, न्याय नहीं मिला। इससे आहत होकर मैंने इस्तीफा दिया है। जिस समाज से मैं आता हूं उन समाज के लोगों से चर्चा कर किसी पार्टी में शामिल होने का निर्णय लूंगा।"

यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीते 24 घंटे में प्रदेश की राजनीति में बड़ा उलटफेर नजर आया है। एक दिन पहले श्रम मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य के इस्तीफे के बाद रोशन लाल वर्मा और बांदा के तिंदवारी से विधायक बृजेश प्रजापति ने भी बीजेपी छोड़ने का ऐलान किया था। वहीं आज सुबह मुजफ्फनगर के विधायक अवतार सिंह भड़ाना ने भी बीजेपी को झटका देते हुए आरएलडी में शामिल होने का ऐलान कर दिया। प्रदेश में बीजेपी के कई विधायकों और मंत्रियों के इस्तीफे की चर्चा थी, जो सही साबित हुई है।

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia