'हिंदू-मुस्लिम मछुआरों के बीच भेदभाव कर रही राज्य सरकार', इच्छामृत्यु की मांग करते हुए गुजरात HC पहुंचे 600 मछुआरे

गुजरात के पोरबंदर जिले के गोसाबार के 600 से अधिक मुसलमानों ने उच्च न्यायालय में एक आवेदन दायर कर इच्छामृत्यु की अनुमति मांगी है। आने वाले दिनों में याचिका पर सुनवाई होगी।

फोटो: IANS
फोटो: IANS
user

नवजीवन डेस्क

गुजरात के पोरबंदर जिले के गोसाबार के 600 से अधिक मुसलमानों ने उच्च न्यायालय में एक आवेदन दायर कर इच्छामृत्यु की अनुमति मांगी है। आने वाले दिनों में याचिका पर सुनवाई होगी। यह पहला मौका है जब एक साथ 600 लोगों ने इच्छामृत्यु के लिए आवेदन किया है।


याचिकाकर्ताओं ने कहा कि पिछले 100 वर्षों में, 100 परिवारों के लगभग 600 लोग मछली पकड़ने के व्यवसाय में शामिल रहे हैं और मत्स्य विभाग ने उन्हें मछली पकड़ने का लाइसेंस दिया था।

याचिका में कहा गया है कि, हालांकि, संबंधित विभाग के अधिकारी उन्हें गोसाबर या नवी बंदर बंदरगाह पर नावों को लंगर डालने की अनुमति नहीं देते हैं और 2016 से उन्हें परेशान कर रहे हैं, जिसके कारण वे बहुत कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं और अपना जीवन खत्म करना चाहते हैं।


इस समस्या के समाधान के लिए उच्चाधिकारियों से कई बार गुहार लगाने के बावजूद यह अभी भी अनसुलझा है।

याचिकाकर्ताओं ने आवेदन में कहा कि वे किसी भी अवैध गतिविधि में शामिल नहीं हैं और समय-समय पर सुरक्षा बलों को सुरक्षा इनपुट भी प्रदान करते हैं।

उच्च न्यायालय के समक्ष दायर याचिका में, यह तर्क दिया गया है कि राज्य सरकार हिंदू और मुस्लिम मछुआरों के बीच भेदभाव कर रही है और बाद वाले को पर्याप्त सुविधाएं प्रदान नहीं कर रही है।

आईएएनएस के इनपुट के साथ

नवजीवन फेसबुक पेज और नवजीवन ट्विटर हैंडल पर जुड़ें

प्रिय पाठकों हमारे टेलीग्राम (Telegram) चैनल से जुड़िए और पल-पल की ताज़ा खबरें पाइए, यहां क्लिक करें @navjivanindia


Published: 06 May 2022, 10:50 PM